Covid-19 Update

2, 85, 012
मामले (हिमाचल)
2, 80, 818
मरीज ठीक हुए
4117*
मौत
43,138,393
मामले (भारत)
527,842,668
मामले (दुनिया)

मंडी के वैज्ञानिकों का कमाल, बनाई ऐसी तकनीक..अब नहीं खिसकेंगे हमारे पहाड़

आईआईटी कमांद मंडी के वैज्ञानिकों ने मिट्टी की पकड़ को मजबूत करने का किया शोध

मंडी के वैज्ञानिकों का कमाल, बनाई ऐसी तकनीक..अब नहीं खिसकेंगे हमारे पहाड़

- Advertisement -

मंडी। आईआईटी कमांद मंडी (IIT Command Mandi) के वैज्ञानिकों ने मिट्टी को मिट्टी के ही एक बैक्टीरिया की मदद से इसकी पकड़ को और मजबूत करने को लेकर शोध किया है। वैज्ञानिकों (Scientists) का दावा है कि माइक्रोब की मदद से मिट्टी की पकड़ मजबूत करने की प्रक्रियाएं विकसित करने का यह अध्ययन पहाड़ी क्षेत्रों में और भू-आपदाओं के दौरान फील्ड स्केल (Field Scale) पर मिट्टी का कटाव रोकने में कामयाबी देगा। शोधकर्ता टीम के निष्कर्ष हाल में जीयोटेक्निकल एंड जीयो-इन्वायरनमेंटल इंजीनियरिंग ऑफ अमेरिकन सोसायटी ऑफ सिविल इंजीनियर्स (एएससीई) नामक जर्नल में प्रकाशित किए गए हैं। शोध के प्रमुख डॉ. कला वेंकट उदय और सह-लेखक एमएस स्कॉलर दीपक मोरी हैं। आईआईटी मंडी (IIT Mandi) के शोधकर्ता मिट्टी के स्थिरीकरण की स्थायी तकनीक विकसित करने की दिशा में कार्यरत हैं।

यह भी पढ़ें-ट्रेन से दिल्ली रवाना हुए अनुरागः कहा- जल्द पूरा होगा तलवाड़ा-दौलतपुर चौक रेल लाइन का काम

इसमें वे नुकसान नहीं करने वाले बैक्टीरिया एस पाश्चरी का उपयोग कर रहे हैं, जो यूरिया (Urea) को हाइड्रोलाइज कर कैल्साइट बनाते हैं। इस प्रक्रिया में खतरनाक रसायन इस्तेमाल नहीं होता है और प्राकृतिक संसाधनों का सतत् उपयोग किया जा सकता है। शोध प्रमुख डाक्टर कला वेंकट ने बताया कि पिछले कुछ दशकों में पूरी दुनिया (World) में मिट्टी के स्थिरीकरण की पर्यावरण अनुकूल और स्थायी तकनीक, माइक्रोबियल इंड्यूस्ड कैल्साइट प्रेसिपिटेशन (एमआईसीपी) पर परीक्षण हो रहे हैं। इसमें बैक्टीरिया का उपयोग कर मिट्टी के सूक्ष्म छिद्रों में कैल्शियम कार्बोनेट (कैल्साइट) बनाया जाता है जो अलग-अलग कणों को आपस में मजबूती से जोड़ता है, जिसके परिणामस्वरूप मिट्टी/जमीन की पकड़ मजबूत होती है।

क्लाइमेट चेंज और सस्टेनेबिलिटी के लिए बनेगा मददगार

इस प्रक्रिया में शोधकर्ताओं ने एस. पाश्चरी नामक नुकसान नहीं पहुंचाने वाले बैक्टीरिया (Bacteria) का उपयोग किया है, जो यूरिया को हाइड्रोलाइज कर कैल्साइट बनाता है। खासकर यूरिया का उपयोग इसलिए उत्साहजनक है, क्योंकि इसमें खतरनाक रसायन नहीं हैं और इससे प्राकृतिक संसाधनों का स्थायी रूप से समुचित उपयोग संभव है। डाक्टर केवी (Dr. KV) ने बताया कि यह प्राकृतिक तौर पर प्रकृति के संवर्धन और संरक्षण में भी कारगर है। इसके साथ ही यह माध्यम क्लाइमेट चेंज (Climate Change) और सस्टेनेबिलिटी के लिए भी आने वाले समय में मददगार साबित होगा। उन्होंने बताया कि पहाड़ी क्षेत्रों में बरसात या अन्य किसी कारण से होने वाले लैंड स्लाइड (Land Slide) में नुक्सान को काफी हद तक कम किया जा सकता है। बता दें कि आईआईटी मंडी के शोधकर्ता नित नए शोध कर प्रकृति, पर्यावरण व मानव के साथ विभिन्न प्रकार के जीवों के लिए उपयोगी शोध कर इनके संवर्धन और संरक्षण में भी अहम भूमिका निभा रहा है, जिसका फायदा यहां के लोगों को हो रहा है।\

हिमाचल और देश-दुनिया के ताजा अपडेट के लिए like करे हिमाचल अभी अभी का facebook page

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है