Covid-19 Update

3,12, 188
मामले (हिमाचल)
3, 07, 820
मरीज ठीक हुए
4189
मौत
44,583,360
मामले (भारत)
622,055,597
मामले (दुनिया)

दिन में कई बार सुनते हैं हम भाड़ में जा शब्द, अर्थ जानोगे तो रह जाओगे हैरान

उत्तरी भारत यूपी, पूर्वांचल और बिहार जैसे क्षेत्रों में खूब प्रचलित है उक्त शब्द

दिन में कई बार सुनते हैं हम भाड़ में जा शब्द, अर्थ जानोगे तो रह जाओगे हैरान

- Advertisement -

आपने गुस्से (Anger) से कई लोगों को यह कहते सुना होगा भाड़ में जाओ और फिर भाड़ में गई तुम्हारी कमाई। क्या कभी आपने सोचा है कि भाड़ में जा शब्द का क्या अर्थ है। बहुत ज्यादा लोग इस शब्द का अर्थ नरक में जाना ही समझते हैं, मगर इसका असली शब्द अर्थ (word meaning) कुछ और ही है। तो चलिए आज आपको भाड़ में जा शब्द का अर्थ बताते हैं। हमारे देश में किस्से, कहानियां और मुहावरे सुनाए जाते हैं। इसमें हर बात का लहजा अलग होता है। इस प्रक्रिया में हम ऐसे शब्दों का प्रयोग भी बदस्तूर करते जाते हैं, जिनका हमें शब्द का अर्थ ही पता नहीं होता है। ज्यादातर लोग भाड़ में जा शब्द का उपयोग तो करते हैं मगर उन्हें इसका अर्थ ही पता नहीं होता है।

यह भी पढ़ें:मिडिल क्लास के लिए खुशखबरी-सरकार देगी 5 लाख तक के मुफ्त इलाज की सुविधा

हम अकसर कहते हैं भाड़ में गया तुम्हारा प्रेम, भाड़ में गई तुम्हारी कहानी और भाड़ में गए तुम्हारे पैसे। ना जाने कितने ही वाक्यों के लिए भाड़ शब्द का प्रयोग किया जाता है। मगर हैरानी की बात हमें इसका सही से मतलब ही नहीं जानते हैं। आपको यह भी पता नहीं होगा की भाड़ शब्द कहां से आया और इसका असली अर्थ क्या है। ये बहुत ही दिलचस्प और प्रचलित शब्द है। दिन में कई बार इस शब्द का इस्तेमाल (Use) होता होगा। यह शब्द पूरे उत्तर भारत और हिंदू बहुल इलाकों में बोला जाता है।

आपने यह कहावत तो सुनी होगी कि अकेला चना भाड़ नहीं फोड़ सकता। तो यहां पर भाड़ शब्द को भड़भूजा शब्द से लिया गया है। कई क्षेत्रीय भाषाओं (regional languages) में भड़भूजा उस चीज को कहा जाता है, जहां पर चना, मूंगफली, या दाल (chickpeas, peanuts, or lentils) को भूना जाता है। यदि भाड़ शब्द के शाब्दिक अर्थ पर जाया जाए तो इसका मतलब भट्टी होता है। भट्ठी गीली मिट्टी और ईंट से बनाई जाती है। इस प्रकार छोटी भट्ठी में में अनाज को भूना जाता है। ये शब्द अधिकतर यूपी, पूर्वांचल और बिहार (UP, Purvanchal and Bihar) जैसे क्षेत्रों में इस्तेमाल किया जाता है और वहां पर जगह.जगह आपको इस तरह की भट्टी मिल जाएगी। इस तरह भट्टी में अधिकतर दो तरफ से मुंह होता है। यहां एक तरफ से आग लगाई जाती है और दूसरी तरफ से ईंधन डालने की जगह होती है। इसमें जिस भी चीज को भूना जाता है, उसके लिए लगातार आग का जलाना जरूरी होता है। ऐसे में यह जरूरी होता है कि ईंधन डालने के लिए जगह बनी रहे।

अब भाड़ का मतलब आप अच्छी तरह से समझ गए होंगे। मगर भाड़ में जा शब्द का अर्थ भी है। इसलिए भाड़ यानी भट्ठी में आग जलती है तो भाड़ में जा का अर्थ हुआ कि जलकर मर जा। जैसे हम अंग्रेजी में कहते हैं गो टू हेल। इसी तरह भाड़ में जा का अर्थ है जलकर मर जा। मगर गूगल में सर्च करने पर इस शब्द का अर्थ नरक में जा मिलेगा। मगर सही अर्थ इसका यही है।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है