Covid-19 Update

2,17,615
मामले (हिमाचल)
2,12,133
मरीज ठीक हुए
3,643
मौत
33,563,421
मामले (भारत)
230,985,679
मामले (दुनिया)

शुभ विवाह शुभ आंगन, अब इस तरह Brand Ambassador भी बनेंगी बेटियां

शुभ विवाह शुभ आंगन, अब इस तरह Brand Ambassador भी बनेंगी बेटियां

- Advertisement -

धर्मशाला। बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना को और प्रबल और गतिशील बनाने के लिए कांगड़ा जिला प्रशासन द्वारा जिजीविषा अभियान आरंभ करने की पहल की है। कांगड़ा की बेटियों को भविष्य में और अधिक सुविधाएं प्रदान करने के लिए यह कदम उठाया है ताकि कांगड़ा की बेटियां अपना भविष्य संवार सकें और दुनिया के साथ कदम से कदम मिलाकर चलने में और अधिक सक्षम बन सकें। जिजीविषा का अर्थ है जीने की प्रबल चाह। इसी सोच के साथ कांगड़ा (Kangra) में जिजीविषा के अंतर्गत बेटियों के लिए नए कार्यक्रम आरंभ किया गया है ताकि समाज में बेटियों के प्रति नकारात्मक सोच को बदला जा सके। 2011 की जनगणना के अनुसार शिशु लिंग अनुपात कांगड़ा जिला में एक हजार बेटों के मुकाबले 876 बेटियां है अगर इसी तरह से लिंग अनुपात घटता गया तो बेटियां असुरक्षित हो जाएंगी। जिला कांगड़ा में बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान के अंतर्गत शिशु लिंग अनुपात को सुधारने के लिए अनेक कदम उठाए जा रहे हैं। इसी कड़ी में जिजीविषा जिला प्रशासन का एक नवीन प्रयास है।

ये भी पढे़ं – मिसाल : बेटी की पढ़ाई के लिए जमा किए पैसों से 600 जरूरतमंद परिवारों को बांटा सामान

 

 

 

कांगड़ा की हर पंचायत में एक बेटी का हो रहा चयन

जिजीविषा के तहत हमारे गांव की बेटी हमारी शान, उपायुक्त का परिवार, शुभ विवाह नया आंगन, जनभागीदारी, खंड स्तरीय ब्रांड एंबेसडर, बेटियों की स्वास्थ्य जांच तथा आत्म रक्षा पर प्रशिक्षण (Training) पर विशेष फोकस रहेगा हमारे गांव की बेटी के तहत जिला कांगड़ा की हर पंचायत में एक बेटी का चयन किया जा रहा है जिसने किसी भी क्षेत्र में सराहनीय कार्य किया हो, स्थानीय एंबेसडर की पहचान भी की गई है उसी को क्षेत्र का उदाहरण बनाकर अन्य बेटियों के प्रोत्साहन के लिए प्रेरित किया जाएगा। पंचायत कार्यालयों में इन्हीं बेटियों के पोस्टर बैनर इत्यादि लगाए जाएंगे। इसके साथ ही उपायुक्त का परिवार के तहत जिला पंचायत अधिकारी एवं बाल विकास परियोजना अधिकारी उन परिवारों अथवा अभिभावकों की पहचान करेंगे जिनके यहां केवल बेटियां हों, ऐसे चिह्नित परिवारों के नाम सम्मान पटल पर दर्शाए जाएंगे। इन परिवारों को एक विशेष नाम डीसी का परिवार के नाम से जाना जाएगा। इसके साथ ही शुभ विवाह नया आंगन के तहत एक मार्च 2020 के बाद नए शादीशुदा जोड़ों की पहचान की जा रही है और इनके नाम पंजीकृत (Registered) कर आंगनबाड़ी स्तर पर रिकार्ड रखा जाएगा। आंगनबाड़ी कार्यकर्ता तथा आशा वर्कर्स प्रतिमाह ऐसे जोड़ों के घर जाएंगे और उपायुक्त की ओर से बधाई पत्र एवं शुभ संदेश दिया जाएगा। इस प्रकार नवविवाहित जोड़ों से संवाद स्थापित कर पोषण एवं स्वास्थ्य संबंधी शिक्षा प्रदान की जाएगी। इसके अलावा भविष्य में गर्भवती होने पर इन जोड़ों को प्रसव संबंधी जानकारी दी जाएगी इससे गर्भधारण पंजीकरण में भी वृद्वि होगी। इसके अलावा जनभागीदारी के तहत स्थानीय बाजार की दुकानों के नामों में बदलाव कर बेटियों के नाम पर रखने की योजना भी बनाई गई है।

 

 

प्रारंभिक चरण में पंचरूखी तथा नगरोटा सूरियां का चयन

इस योजना के तहत प्रारंभिक चरण में पंचरूखी तथा नगरोटा सूरियां (Nagrota Suriyan) को चुना गया है । इन खंडों में ऐसे दुकानदारों की सूची ली जाएगी जो स्वेच्छानुसार अपनी दुकानों के नाम बेटियों या घर की महिला सदस्य के नाम पर रखना चाहते हैं। खंड स्तरीय ब्रांड एंबेसडर के तहत बाल विकास परियोजना अधिकारी अपने अधीनस्थ क्षेत्र में बेटी की पहचान करेंगे जिसने किसी भी क्षेत्र में अति उत्कृष्ट कार्य किया हो। एक खंड से एक बेटी को चिह्नित किया जाएगा। चयनित बेटी जिजीविषा अभियान में एक ब्रांड एंबेसडर के रूप में कार्य करेगी। इन बेटियों के द्वारा स्कूल, कालेज एवं पंचायत स्तर पर अन्य बेटियों को प्रेरित करने के लिए कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे। बेटियों के स्वास्थ्य जांच के लिए विशेष शिविर आयोजित किए जाएंगे जिसमें महिला चिकित्सक द्वारा एनीमिया की जांच, पौषाहार तथा स्वास्थ्य शिक्षा के बारे में जानकारी दी जाएगी। इसके साथ ही आत्म रक्षा के लिए भी विशेष प्रशिक्षण शिविर आयोजित किए जाएंगे। डीसी राकेश प्रजापति ने कहा कि कांगड़ा जिला में जिजीविषा अभियान आरंभ कर दिया गया है तथा इसमें आम जनमानस की सहभागिता भी सुनिश्चित की जाएगी ताकि बेटियों के सशक्तिकरण की दिशा में आगे बढ़ा जा सके।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है