Covid-19 Update

2, 52, 042
मामले (हिमाचल)
2, 33, 188
मरीज ठीक हुए
3892*
मौत
38,218,773
मामले (भारत)
339,486,288
मामले (दुनिया)

ब्रिटेन में तोते की वजह से Zoo को झेलनी पड़ रही थी शर्मिंदगी, जानें पूरा मामला

पर्यटकों को इस तरह करते थे परेशान

ब्रिटेन में तोते की वजह से Zoo को झेलनी पड़ रही थी शर्मिंदगी, जानें पूरा मामला

- Advertisement -

नई दिल्ली। अक्सर आपने तोते को गाते या इंसानी भाषा बोलते हुए सुना होगा। लोग तोते की इसी खूबी के चलते उसे अपने घर में रखते हैं। भारत में तो लोग अपने पालतू तोते को मिट्ठू और राम तक कहते हैं। उनसे गुजारिश करते हैं कि वे उनका नाम लें।

यह भी पढ़ें: किसान ने 1123 किलो प्याज बेचकर कमाए सिर्फ 13 रुपए, जानें पूरा मामला

लेकिन, क्या आपने कभी ये सोचा है कि अपने इसी बोलने वाली हुनर से कुछ तोते चिड़ियाघर की नाक कटवा देंगे? जी हां, ये बिल्कुल सच है। ब्रिटेन में एक ऐसा ही मामला सामने आया है। जहां एक जू यानी चिड़ियाघर से पांच तोतों को इसलिए हटाना पड़ा क्योंकि वे चिड़ियाघर घूमने आने वालों को वे गंदी गंदी गालियां देते थे। जिसकी शिकायत अक्सर पर्यटक जू प्रबंधन से करते थे। शिकायतों से तंग आकर जू प्रबंधन ने पांच तोते को हटा दिया। बताया जा रहा है कि ये पांच तोते एक साथ कुछ समय क्वारंटाइन में थे, जिसके बाद से उनमें ये बदलाव देखा गया।

ब्रिटेन के लिंकनशायर वन्यजीव पार्क में कुछ दिन पहले ही पार्क के अधिकारियों ने एरिक, जेड, एल्सी, टायसन और बिली नाम के ग्रे कलर के इन पांच तोते अलग-अलग लोगों से लिया था। वे इसके बाद पांचों को एक साथ एक ही पिंजरे में क्वारंटाइन में रखने का फैसला लिया था। उसके कुछ ही दिनों में अधिकारियों के पास इन तोतों की शिकायत पहुंचने लगी। पार्क प्रबंधन का कहना है कि पहले ये तोते आपस में ही एक दूसरे को गालियां दे रहे थे और इसके बाद वहां आने वाले लोगों को भी वे गाली गलौज करने लगे।

तोते के इस हरकत पर वन्यजीव पार्क के चीफ एग्जीक्यूटिव स्टीव निकोल्स ने बताया कि यहां सभी लोग हैरान है कि तोते गालियां दे रहे थे। हम लोग यहां आने वाले बच्चों के बारे में थोड़ा परेशान थे। उन्होंने बताया कि तोते के मुंह से गालियां सुनकर यहां आने वाले लोग हंसने लगे तो इन तोते को और बढ़ावा मिला और ये पहले से ज्यादा गालियां देने लगे। वहीं, पार्क में आने वाले बच्चों का ध्यान रखते हुए तोते को हटा दिया गया। ताकि वे अपशब्द ना सीखें।

हिमाचल और देश-दुनिया के ताजा अपडेट के लिए like करे हिमाचल अभी अभी का facebook page

 

- Advertisement -

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है