Covid-19 Update

2, 85, 014
मामले (हिमाचल)
2, 80, 820
मरीज ठीक हुए
4117*
मौत
43,142,192
मामले (भारत)
529,039,594
मामले (दुनिया)

Russia-Ukraine War: यूक्रेन में अभी भी हिमाचल के 58 छात्र फंसे, 410 पहुंचाए सुरक्षित घर

सदन में जयराम ठाकुर ने दी जानकारी, बचे छात्रों को निकालने का प्रयास जारी

Russia-Ukraine War: यूक्रेन में अभी भी हिमाचल के 58 छात्र फंसे, 410 पहुंचाए सुरक्षित घर

- Advertisement -

शिमला। रूस जंग के बीच यूक्रेन (Ukraine) में अभी भी हिमाचल के 58 छात्र वहां फंसे हुए है। अभी तक 410 छात्रों को सुरक्षित पहुंचाया गया है। यह जानकारी सीएम जयराम ठाकुर (CM Jairam Thakur) ने सदन में दी। उन्होंने कहा कि यूक्रेन में भारत के फंसे छात्रों को घर वापसी के लिए प्रधानमंत्री प्रयास कर रहे हैं, जो सफल होते भी दिख रहा है। बच्चों और अभिभावकों के साथ सरकार संपर्क में है। आपरेशन गंगा (Operation Ganga) के तहत वायु सेना के विमानों से बच्चों को भारत लाया जा रहा है। प्रदेश के 410 छात्रों को सुरक्षित घर पहुंचाया गया है। अभी भी प्रदेश के 58 छात्र यूक्रेन और पड़ोसी देशों में फंसे हैं। रूस (Russia) की सीमा खारकीव से प्रदेश के सभी छात्रों को निकाल लिया है, जबकि सुमि में अभी भी भारतीय छात्र (Indian Student) फंसे हैं, जिन्हें निकालने का प्रयास जारी है। प्रदेश सरकार भी छात्रों की वापसी के लिए लगातार प्रयासरत है।

यह भी पढ़ें- J&K-लद्दाख और हरियाणा ने कब्जाई हिमाचल की जमीन, विधानसभा में उठा मुद्दा

यूक्रेन से लौटे छात्रों की प्रदेश में पूरी करवाई जाए पढ़ाई

शाहपुर। दरगेला पंचायत की शिवालिक शर्मा पुत्री विपिन शर्मा गांव गोजु आज सुबह यूक्रेन से अपने घर पहुंची। इस दौरान प्रदेश कांग्रेस महासचिव केवल सिंह पठानिया (Kewal Singh Pathania) सहित ब्लॉक कांग्रेस के संगठनों के पदाधिकारियों ने उसका स्वागत किया। पठानिया ने कहा कि उनके विधानसभा क्षेत्र के बच्चे जो यूक्रेन में पढ़ाई करने गए थे, वे लगभग सभी भगवान की कृपा से वापस घर लौट आए हैं। पठानिया ने कहा कि आज भी यूक्रेन में हमारे प्रदेश के बच्चे फंसे हुए है। उनको निकालने के लिए हमारी देश की सरकार की नीति में कमी दिख रही है। पठानिया ने सीएम जयराम ठाकुर से मांग उठाई कि जो बच्चे यूक्रेन में जा कर पढ़ाई करने गए थे, उनकी पढ़ाई में रूस और यूक्रेन के युद्ध से बाधा आई है और बच्चों के मां-बाप ने लाखों रुपए खर्च करके बच्चों को बाहर भेजा था, लेकिन अब बच्चे घर आ गए है। सीएम से अपील है कि अपने प्रदेश में इन बच्चों की पढ़ाई को जारी करने के लिए प्रदेश के मेडिकल कॉलेज (Medical Collage) में इनको एडमिशन करवा कर इनकी पढ़ाई को पूरी करवाए, जिससे बच्चों का भविष्य खराब न हो।

हिमाचल और देश-दुनिया के ताजा अपडेट के लिए like करे हिमाचल अभी अभी का facebook page

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है