Covid-19 Update

59,014
मामले (हिमाचल)
57,428
मरीज ठीक हुए
984
मौत
11,190,651
मामले (भारत)
116,428,617
मामले (दुनिया)

कृषि कानून के विरोध में हिमाचल में माकपा व कांग्रेस ने किया प्रदर्शन, केंद्र के खिलाफ की नारेबाजी

शिमला के विक्ट्री टनल पर माकपा व बिलासपुर में कांग्रेस ने निकाला गुस्सा

कृषि कानून के विरोध में हिमाचल में माकपा व कांग्रेस ने किया प्रदर्शन, केंद्र के खिलाफ की नारेबाजी

- Advertisement -

शिमला। कृषि कानूनों ( Agricultural laws) के खिलाफ पिछले दो महीने से भी ज्यादा समय से किसानों का प्रदर्शन ( Farmers Protest)जारी है। किसान आंदोलन को और धार देने के लिए किसान संगठन आज तीन घंटे के लिए देशव्यापी चक्का जाम( Chakka Jaam) कर रहे हैं। इसी क्रम में हिमाचल में भी किसानों ने कई स्थानों पर धरना प्रदर्शन व चक्का जाम किया। राजधानी शिमला में वामपंथी किसान संगठनों विक्ट्री टनल( Victory tunnel) पर किया चक्का जाम कर तीनों कृषि कानूनों को तुरंत रद्द करने की मांग की।हालांकि यह प्रदर्शन थोड़ी देर के लिए ही हुआ। इस दौरान धरने पर बैठे किसानों के साथ की जा रही जबरदस्ती को लेकर भी अपनी नाराजगी जताई। वामपंथी नेता शिव कुमार सिंह व विधायक राकेश सिंघा ने केंद्र सरकार पर आरोप लगाया कि कुछ बड़े और रसूखदार कारोबारियों को लाभ पहुंचाने के लिए सरकार देश के अन्नदाताओं के साथ क्रूर मजाक कर रही है।

यह भी पढ़ें: किसानों का देशव्यापी चक्का जाम आज, Delhi में 50 हजार सुरक्षा कर्मी तैनात

कांग्रेस ने शहीद स्मारक बिलासपुर में दिया सांकेतिक धरना

बिलासपुर( Bilaspur)में भी कांग्रेस ने शहीद स्मारक पर सांकेतिक धरना दिया। कांग्रेस विधायक रामलाल ठाकुर ( Congress MLA Ramlal Thakur) की अगुवाई में दिए गए इस सांकेतिक धरने के दौरान कांग्रेस ने पीएम नरेंद्र मोदी व केंद्र सरकार के विरूद्ध जमकर नारेबाजी की। करीब दो घंटे तक कांग्रेसी शहीद स्मारक पर बैठे रहे। इस दौरान रामलाल ठाकुर ने कहा कि चुनावों के समय इन उद्योगपतियों द्वारा किए गए अहसानों को उतारने के लिए देश के अन्नदाताओं के हितों को दरकिनार कर रही है। उन्होंने कहा कि आज देश का अन्नदाता पिछले करीब अढ़ाई महीनों से देश की राजधानी दिल्ली के बार्डरों पर डेरा डाले हुए हैं लेकिन केंद्र सरकार को किसानों की आवाज नहीं सुनाई दे रही है। वहीं पूर्व सांसद सुरेश चंदेल ने कहा कि इन काले कानूनों के सहारे केंद्र सरकार अपने चहेते उद्योगपतियों को लाभान्वित करने का प्रयास कर रही है। उन्होंने तंज कसते हुए कहा कि जब किसान इन कानूनों का विरोध कर रहे हैं तो केंद्र सरकार इसे किस कारण वापस नहीं ले रही है। देश में पहली बार किसानों ने अपनी ताकत का एहसास करवाया है और यदि केंद्र सरकार ने समय रहते इन काले कानूनों को वापस न लिया तो आने वाले समय में केंद्र सरकार को इसके गंभीर परिणाम भगुतने पड़ेंगे।

आनी में एन-एच 305 किया जाम

आनी:  किसान सभा आनी ने  किसान बिल की  वापसी को लेकर नए बस अड्डे के सामने आनी एनएच 305 को लगभग एक घंटे तक जाम किया। केंद्र व प्रदेश सरकार के खिलाफ  किसान सभा व इंटक के इस  सयुक्त धरना प्रदर्शन में  सेकड़ो सदस्यों ने भाग लिया। इस दौरान किसान सभा ने आनी परिवहन निगम के चालक की आकस्मिक मौत के लिए दो मिनट का मौन भी रखा। वही किसान सभा के नेता प्रताप ठाकुर ने किसान सभा की रैली को सम्बोधित करते हुए कहा कि केंद्र सरकार जब तक कृषि बिल निरस्त नहीं करेगी तब तक किसान आंदोलन जारी रहेगा। उन्होंने कहा कि आउटर सिराज और  हिमाचल प्रदेश के सभी किसान सभा इंटक सहित किसान संघर्ष समिति किसानों के आंदोलन को समर्थन कर रही है। किसान सभा नेता पद्म प्रभाकर ने कहा कि केंद्र सरकार किसान विरोधी है जिस कारण देश के किसान 70 दिनों से दिल्ली बॉडर पर बैठे हुए है।  कुल्लू,आउटर सिराज से  भी दिल्ली बॉडर पर किसान किसान आंदोलन में शामिल होंगे।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group 

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है