Covid-19 Update

2, 85, 003
मामले (हिमाचल)
2, 80, 796
मरीज ठीक हुए
4117*
मौत
43,134,332
मामले (भारत)
526,876,304
मामले (दुनिया)

हिमाचल हाईकोर्ट: पंडोह और बरोट बांध से पानी ना छोड़ने पर मुख्य सचिव को नोटिस जारी

हाईकोर्ट ने प्रधान सचिव पर्यावरणए राज्य प्रदुषण बोर्ड और डीसी मंडी से भी किया जवाब तलब

हिमाचल हाईकोर्ट: पंडोह और बरोट बांध से पानी ना छोड़ने पर मुख्य सचिव को नोटिस जारी

- Advertisement -

शिमला। हिमाचल हाईकोर्ट ने पंडोह और बरोट बांध से हाइड्रो पालिसी के अनुरूप 15 प्रतिशत पानी ना छोड़ने पर मुख्य सचिव को नोटिस जारी किया है। देव भूमि पर्यावरण मंच के अध्यक्ष की ओर से मुख्य न्यायाधीश के नाम लिखे पत्र पर हाई कोर्ट ने कड़ा संज्ञान लेते हुए पत्र को जनहित याचिका में तब्दील किया है। खंडपीठ ने इस मामले में प्रधान सचिव पर्यावरण, राज्य प्रदुषण बोर्ड और डीसी मंडी से भी जवाब तलब किया है। पत्र के माध्यम से आरोप लगाया है कि पंडोह और बरोट बांध से हाइड्रो पालिसी के प्रावधानों के तहत जरूरी मात्रा में पानी नहीं छोड़ा जा रहा है जिससे पेय स्त्रोत, सिंचाई स्त्रोत, झीले, झरने इत्यादि सूखने की कगार पर है। जबकि हाइड्रो पालिसी और नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल के आदेशों के तहत हिमाचल प्रदेश में स्थापित सभी हाइड्रो प्रोजेक्ट / बांधों से 15 से 20 फीसदी पानी छोड़ा जाना अनिवार्य है। पत्र के माध्यम से दलील दी गई है कि हिमाचल प्रदेश की जनता पहले ही सूखे की मार को झेल रही है और ऐसे में पंडोह और बरोट बांध से हाइड्रो पालिसी और नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल के आदेशों के तहत 15 से 20 प्रतिशत पानी नहीं छोड़ा जा रहा है। आरोप लगाया गया है कि बांध अथोरिटी की ओर से राज्य सरकार को यह कहकर गुमराह किया जा रहा है कि बांध से हाइड्रो पालिसी और नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल के आदेशों तहत जरूरी मात्रा में पानी छोड़ा जा रहा है।

यह भी पढ़ें:हिमाचल हाईकोर्ट ने गलत आदेश पारित करने पर सिविल जज सोलन से मांगा स्पष्टीकरण

उल्लेखनीय है कि हिमाचल प्रदेश में 655 ऐसे हाइड्रो प्रोजेक्ट है जो पांच मेगावाट तक की बिजली का उत्पादन करते है और कई ऐसे प्रोजेक्ट है जिनका बिजली उत्पादन कई मेगावाट में है। हिमाचल सरकार ने इन बांधो और प्रोजेक्टों से 15 प्रतिशत पानी छोड़ने बारे जरुरी प्रावधान रखा गया है। हालाँकि केन्द्रीय सरकार ने बांधो से पानी छोड़ने की प्रतिशतता को 20-30 फीसदी बढ़ाने का सुझाव दिया है ताकि जल स्त्रोत न सूखे। प्रार्थी ने अदालत से गुहार लगाईं है कि राज्य सरकार को आदेश दिए जाए कि वह सुनिश्चित करे कि पंडोह और बरोट बांध से 15 – 20 प्रतिशत पानी ब्यास और उहल नदी में छोड़े। मामले की सुनवाई 31 मई को निर्धारित की गई है।

 

हिमाचल और देश-दुनिया के ताजा अपडेट के लिए like करे हिमाचल अभी अभी का facebook page

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है