Covid-19 Update

2,85,705
मामले (हिमाचल)
2,81,272
मरीज ठीक हुए
4122
मौत
43,381,064
मामले (भारत)
548,242,587
मामले (दुनिया)

WORLD ENVIRONMENT DAY 2022: ये हैं दुनिया के सबसे स्वच्छ देश

1972 में हुई थी विश्व पर्यावरण दिवस की शुरुआत

WORLD ENVIRONMENT DAY 2022: ये हैं दुनिया के सबसे स्वच्छ देश

- Advertisement -

विश्व पर्यावरण दिवस (WORLD ENVIRONMENT DAY) हर साल 5 जून को मनाया जाता है। इस दिवस को मनाने का मकसद दुनियाभर में बढ़ते प्रदूषण के चलते प्रकृति और पर्यावरण को होने वाले नुकसान को लेकर लोगों को जागरूक करना है।

यह भी पढ़ें:वेस्ट प्रोडक्टस को कुछ यूं करें रिसाइकिल-बन जाएगा आपका काम

विश्व पर्यावरण दिवस को मनाने की घोषणा संयुक्त राष्ट्र संघ ने साल 1972 में की थी। बता दें कि सबसे पहला विश्व पर्यावरण दिवस स्वीडन की राजधानी स्टॉकहोम में सेलिब्रेट किया गया था। इसमें दुनियाभर के 119 देशों ने भाग लिया था। आज हम आपको दुनिया के दस सबसे साफ-सुथरे देशों के बारे में बताएंगे।

दुनिया के सबसे साफ-सुथरे देशों की सूची में सबसे पहले नंबर पर डेनमार्क (Denmark) आता है। पर्यावरण और स्वच्छता के लिहाज से ये देश सबसे बेहतर देश है। इस देश का ईपीआई स्कोर (Environmental Performance Index) 82.5 है, जो कि इसकी उच्च वायु गुणवत्ता को बताता है।

वहीं, साफ-सुथरे देशों की गिनती में दूसरे नंबर पर लक्जमबर्ग (Luxembourg) आता है। लक्जमबर्ग ने अपनी बढ़ती जनसंख्या और जीडीपी के बावजूद पर्यावरण पर खासा ध्यान दिया है। इस देश में काफी सारे जंगल और प्राकृतिक स्थल हैं। इस देश का ईपीआई स्कोर 82.3 है, जो कि इसकी हाई क्वालिटी एयर की ओर इशारा करता है।

तीसरा सबसे साफ-सुथरा देशों की गिनती में तीसरे स्थान पर स्विट्जरलैंड (Switzerland) आता है। ये देश अपने स्वच्छ जल और भरपूर मात्रा में वन्य जीवन के लिए जाना जाता है। इस देश का ईपीआई स्कोर 81.5 है।

स्वच्छ देशों की गिनती में चौथे नंबर पर यूनाइटेड किंगडम (यूके) (United Kingdom) (UK) आता है। ये देश स्वच्छता के अलावा पीने के पानी और प्रदूषण उत्सर्जन के मामले में बेहतरीन माना जाता है। इस देश का ईपीआई स्कोर 81.3 है।

स्वच्छ देशों की गिनती में पांचवें नंबर पर फ्रांस (France) का नाम आता है। ये देश नदियों के किनारे औद्योगिक अपशिष्ट, कचरे इत्यादि को फेंकने पर प्रतिबंध लगाने में कामयाब रहा है। इस देश का ईपीआई स्कोर 80 है।

साफ-सुथरे देशों की गिनती में छठे नंबर पर ऑस्ट्रिया (Austria) का नाम आता है। इस देश का करीब दो-तिहाई हिस्सा घने जंगलों और घास के मैदानों से भरा हुआ है। इस देश में फसलों पर पेस्टिसाइड छिड़काव के साथ फर्टिलाइजर्स के लिए भी कड़े नियम बनाए गए हैं। इस देश का ईपीआई स्कोर 79.6 है।

स्वच्छ देशों की गिनती में सातवें नंबर पर फिनलैंड (Finland) का नाम आता है। इस देश में वायु गुणवत्ता 98.8 फीसदी अच्छी है। ये देश वन और वन्यजीव संरक्षण के मामले में बहुत आगे है। इस देश का ईपीआई स्कोर 78 है।

साफ-सुथरे देशों की गिनती में आठवें नंबर पर स्वीडन (Sweden) का नाम आता है। ये देश विकास के साथ पर्यावरण को प्राथमिकता देता है। इस देश में कई एकड़ में फैले जंगलों को संरक्षित करने के लिए काम किया जा रहा है। इस देश का ईपीआई स्कोर 78.7 है।



वहीं, स्वच्छ देशों की गिनती में 9वें नंबर पर
नार्वे (Norway) का नाम आता है। इस देश ने स्वच्छता और पेयजल के लिए 100 और वायु गुणवत्ता में 97.9 अंक हासिल किए हैं, जो कि विश्व स्तर पर पांचवां उच्चतम है। पर्यावरण स्वास्थ्य के मामले में नार्वे दुनिया में दूसरे स्थान पर आता है। नार्वे की 97% बिजली ऊर्जा के नवीकरणीय स्रोतों पर निर्भर करती है। इस देश का ईपीआई स्कोर 77.7 है।

साफ-सुथरे देशों की गिनती में दसवें नंबर पर जर्मनी (Germany) का नाम आता है। जर्मनी का एयर क्वालिटी इंडेक्स ठीक है और जर्मनी पर्यावरण को सहेजने की दिशा में लगातार काम कर रहा है। इस देश का ईपीआई स्कोर 77.2 है।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है