Covid-19 Update

3,08, 944
मामले (हिमाचल)
302, 438
मरीज ठीक हुए
4167
मौत
44,298,864
मामले (भारत)
598,393,278
मामले (दुनिया)

श्रीखंड महादेव के लिए माता अंबिका निरमंड से छड़ी यात्रा रवाना

शहरी विकास मंत्री सुरेश भारद्वाज किया छड़ी को रवाना

श्रीखंड महादेव के लिए माता अंबिका निरमंड से छड़ी यात्रा रवाना

- Advertisement -

उतर भारत की सबसे कठिनतम श्रीखंड महादेव यात्रा( Shrikhand Mahadev Yatra) के लिए आज माता अंबिका निरमंड से छड़ी यात्रा रवाना हो गई है। इस छड़ी यात्रा को शहरी विकास मंत्री सुरेश भारद्वाज ने रवाना किया। निरमंड के जूना अखाड़ा से शुरू हुई इस छड़ी यात्रा में शामिल लोग 13 जुलाई को श्रीखंड महादेव के दर्शन करेंगे। अंबिका माता निरमंड की छड़ी यात्रा 9 जून को ही यात्रा पर निकल पड़ी है, लेकिन आधिकारिक रूप से इस यात्रा का शुभारंभ 11 जुलाई को होगा। जिसमें आम भक्त निरमंड के सिंह गाढ़ नामक स्थान से करीब 35 किलोमीटर की इस यात्रा को शुरू कर सकेंगे। इस बार श्रद्धालुओं को यात्रा में हिस्सा लेने के लिए ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन करवाना होगा। जिसके लिए यात्रियों को 200 रुपए फीस के अलावा अपना मेडिकल फिटनेस सर्टिफिकेट भी अपलोड करवाना होगा। हर बार की तरह इस बार भी यात्रा के दौरान 5 बेस कैंप स्थापित किए गए हैं। इसमें रजिस्ट्रेशन के अलावा स्वास्थ्य चेकअप, रेस्क्यू टीम व इमरजेंसी सुविधाएं मुहिया करवाई जा रही है। इसके अलावा सफाई व्यवस्था बनाए रखने के लिए एक विशेष दल गठित किया जाएगा

यह भी पढ़ें:कांवड़ यात्रा पर ड्रोन से होगी निगरानी, हाईवे पर तैनात रहेंगे जवान

समुद्रतल से 18570 फीट की ऊंचाई पर स्थित श्रीखंड कैलाश की यात्रा उतरी भारत की सबसे कठिनतम धार्मिक यात्रा है, जिसमें भक्तों को 32 किमी का कठिन व ग्लेशियरयुक्त मार्ग पैदल तय करना पड़ता है और यात्रा के दौरान ऊंचाईं पर आक्सीजन की कमी भी रहती है। बावजूद इसके भोले के दर्शन को भक्तों का साहस कम नहीं होता। यह यात्रा प्रतिवर्ष 15 जुलाई से प्रशासन की देखरेख में शुरू की जाती है।यात्रा के लिए भक्त शिमला से रामपुर होते हुए “एशिया के सबसे बड़े गांव निरमण्ड”पहुंचते हैं। जहां माता अम्बिका और भगवान परशुराम के दर्शनों के बाद भक्त सड़क मार्ग से वाहन द्वारा यात्रा के बेस कैंप सिंहगाड वाया बागीपुल जाओं होकर पहुंचते हैं। यात्रा में भक्तों व श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए हालांकि प्रशासन द्वारा हर प्रकार की व्यवस्था की जाती है मगर इसके इसके अलावा श्रीखंड सेवादल व सेवा समितियां भी भक्तों के लिए खाने पीने व रहने सहने की सेवा करती हैं।

हिमाचल और देश-दुनिया के ताजा अपडेट के लिए like करे हिमाचल अभी अभी का facebook page

 

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group… 

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है