Covid-19 Update

2, 85, 014
मामले (हिमाचल)
2, 80, 820
मरीज ठीक हुए
4117*
मौत
43,140,068
मामले (भारत)
528,504,980
मामले (दुनिया)

हिमाचल की सड़कों पर दौड़ेंगे प्रदूषण रहित वाहन,चंबा में स्थापित होगा हाइड्रोजन ईंधन उत्पादन संयंत्र

हिमाचल दिवस पर एनएचपीसी और प्रदेश सरकार के बीच साइन हुआ एमओयू

हिमाचल की सड़कों पर दौड़ेंगे प्रदूषण रहित वाहन,चंबा में स्थापित होगा हाइड्रोजन ईंधन उत्पादन संयंत्र

- Advertisement -

चंबा। हिमाचल अब प्रदूषण रहित होने जा रहा है। प्रदेश की सड़कों पर अब प्रदूषण रहित वाहन (Pollution Free Vehicle) दौड़ेंगे। इसके लिए शुक्रवार को चंबा में आयोजित राज्यस्तरीय हिमाचल दिवस समारोह में पायलट ग्रीन हाइड्रोजन मोबिलिटी स्टेशन के लिए हिमाचल प्रदेश सरकार और नेशनल हाइड्रो पावर कार्पोरेशन (NHPC) के बीच समझौता ज्ञापन (एमओयू) पर हस्ताक्षर किए गए। इसके तहत एनएचपीसी पायलट प्रोजेक्ट के आधार पर चंबा में 250 किलोवाट के फोटोवाल्टिक सोलर प्लांट के माध्यम से हाइड्रोजन ईंधन उत्पादन संयंत्र (Hydrogen Fuel Production Plant) स्थापित करेगा। प्रोजेक्ट को दो साल में पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है। इसे करीब 20 करोड़ की लागत से स्थापित किया जाएगा। यही नहीं एनएचपीसी हाइड्रोजन ईंधन पर आधारित 33 सीटर बस भी उपलब्ध करवाएगा। बस का परिचालन हिमाचल प्रदेश पथ परिवहन निगम (HRTC) की ओर से जिले के महत्वपूर्ण पर्यटन स्थलों में किया जाएगा। चंबा (Chamba) में पायलट प्रोजेक्ट के सफल होने पर पूरे प्रदेश में ये बसें चलाई जाएंगी। वहीं, सोलर प्लांट से हाइड्रोजन उत्पादित करने के पश्चात बची हुई विद्युत को स्थानीय ग्रिड में भेजा जाएगा।

यह भी पढ़ें:हिमाचल दिवसः महिलाओं का बस किराया 50 फीसदी माफ, ग्रामीण क्षेत्रों में नहीं देना होगा पानी का बिल

चंबा में 300 किलोवाट का प्लांट होगा स्थापित

चंबा में 200 एकड़ क्षेत्र में 300 किलोवाट का ग्रिड कनेक्टेड ग्राउंड माउंटेड सोलर पीवी प्लांट स्थापित किया जाएगा। इससे उत्पन्न ऊर्जा का उपयोग इलेक्ट्रोलाइजर में हाइड्रोजन के उत्पादन के लिए किया जाएगा। प्रतिदिन करीब 20 किलोग्राम ग्रीन हाइड्रोजन ईंधन उत्पन्न होगा और इसे अनुकूल प्रक्रिया के माध्यम से संग्रहित किया जाएगा। एक किलोग्राम हाइड्रोजन ईंधन के उत्पादन के लिए नौ से 12 लीटर पानी का उपयोग होगा।

 

20 किलोग्राम ईंधन से 200 किलोमीटर दौड़ेगी बस

एनएचपीसी के समूह महाप्रबंधक एसके संधू ने कहा कि यह परियोजना अध्यक्ष एके सिंह की पहल पर शुरू की जाएगी। इसके अंतर्गत उत्पादित हाइड्रोजन को 20 किलोग्राम क्षमता वाली बस या कार के ईंधन टैंक में संग्रहित किया जाएगा। यह हाइड्रोजन मुख्य इंजन में लगे हाइड्रोजन ईंधन सेल में जाएगा। इस ऊर्जा का उपयोग चंबा के स्थानीय क्षेत्र में 20 किलोग्राम ईंधन टैंक के साथ लगातार आठ घंटे या 200 किलोमीटर तक बस चलाने के लिए किया जाएगा।

हिमाचल और देश-दुनिया के ताजा अपडेट के लिए like करे हिमाचल अभी अभी का facebook page

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है