Covid-19 Update

2,27,405
मामले (हिमाचल)
2,22,756
मरीज ठीक हुए
3,835
मौत
34,615,757
मामले (भारत)
264,798,834
मामले (दुनिया)

हिमाचल: रेहड़ी पर फास्ट फूड बेच रही हॉकी की नेशनल खिलाड़ी, परिवार संग झुग्गी में रहने को मजबूर

जूनियर वर्ग में हॉकी के 2 नेशनल मैच खेल चुकी है नेहा

हिमाचल: रेहड़ी पर फास्ट फूड बेच रही हॉकी की नेशनल खिलाड़ी, परिवार संग झुग्गी में रहने को मजबूर

- Advertisement -

हमीरपुर। देश के राष्ट्रीय खेल हॉकी की नेशनल खिलाड़ी नेहा सिंह हिमाचल प्रदेश के जिला हमीरपुर में फास्ट फूड की रेहड़ी लगा रही है। नेहा सिंह हिमाचल की टीम की तरफ से जूनियर वर्ग में हॉकी के 2 नेशनल मैच खेल चुकी हैं। जबकि पंजाब यूनिवर्सिटी से वह वेटलिफ्टिंग में भी एक नेशनल लगा चुकी हैं। कॉलेज की पढ़ाई और खेल के करियर को बीच में ही छोड़कर नेहा परिवार का पेट पालने के लिए रेहड़ी लगाने को मजबूर हैं।

यह भी पढ़ें: हिमाचल: मुआवजे के बदले मिला आश्वासन, एक साल से टेंट में रहने को मजबूर परिवार

जानकारी के अनुसार ,जिला मंडी के कोटली क्षेत्र की रहने वाली नेहा सिंह के परिवार के पास जमीन भी नहीं है। वहीं, कुछ महीने पहले नेहा के पिता की तबीयत बिगड़ने के बाद वह गंभीर बीमारी से ग्रस्त हो गए। पिता चंद्र सिंह मछली कॉर्नर चलाते थे। पिता के बीमार होने के बाद परिवार की पूरी जिम्मेवारी नेहा सिंह और उनकी छोटी बहन पर आ गई। जिसके चलते नेहा को अब हमीरपुर बाजार में एक झूंगी में अपने परिवार के चार अन्य सदस्यों के साथ रहने पर मजबूर होना पड़ रहा है। घर का पालन पोषण करने के लिए और पिता की दवाई लाने के लिए दोनों बेटियां को रेहड़ी लगा कर काम करना पड़ रहा है।

नेहा सिंह स्कूली पढ़ाई के दौरान साई हॉस्टल धर्मशाला के लिए चयनित हो गई थी। जिसके बाद नेहा ने राष्ट्रीय स्तर की स्पर्धा में सिल्वर मेडल अपने नाम किया। उन्होंने हिमाचल की टीम की तरफ से कुल दो नेशनल हॉकी मैच खेले हैं। इसके अलावा पंजाब यूनिवर्सिटी से वह वेटलिफ्टिंग में भी एक नेशनल लगा चुकी हैं। उभरती हुई इस खिलाड़ी की किस्मत को शायद कुछ और ही मंजूर था। नेहा की छोटी बहन निकिता बीए की पढ़ाई कर रही है, जबकि छोटा भाई अंकुश बाल स्कूल हमीरपुर में पड़ रहा है।

नेहा ने बताया कि हॉकी में उन्होंने जूनियर वर्ग में 2 नेशनल खेले हैं और वेटलिफ्टिंग में पंजाब की तरफ से नेशनल स्पर्धा में हिस्सा लिया है। नेहा ने कहा कि उन्हें अपनी बहन व भाई की पढ़ाई के लिए काम करना पड़ रहा है। उसने उम्मीद जताई है कि अगर बहन अच्छी पढ़ाई कर लेती है तो उसे अच्छी नौकरी मिल सकती है। नेहा की मां निर्मला देवी ने बताया कि पति के बीमार होने के बाद बेटियों ने परिवार को संभाला है और वह दिन-रात काम करके अपने पिता का ख्याल रखती हैं। नेहा की मां ने सरकार से नेहा के लिए नौकरी की मांग की है।

हिमाचल और देश-दुनिया के ताजा अपडेट के लिए like करे हिमाचल अभी अभी का facebook page

 

 

- Advertisement -

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है