×

नौ करोड़ लोगों को मिलेगा रोजगार-इसके लिए समझना होगा गिग अर्थव्यवस्था को

स्थायी तौर पर कर्मचारियों को रखे जाने के बजाए अल्प अवधि के लिए रखा जाता है

नौ करोड़ लोगों को मिलेगा रोजगार-इसके लिए समझना होगा गिग अर्थव्यवस्था को

- Advertisement -

नौ करोड़ लोगों को रोजगार देने वाली गिग अर्थव्यवस्था (Gig economy) की बात जोरो से होने लगी है। गिग अर्थव्यवस्था यानी कुछ समय के लिए नियुक्त किए जाने वाले कर्मचारियों की व्यवस्था से गैर-कृषि क्षेत्रों (Non-Agricultural Sectors) में नौ करोड़ रोजगार सृजन में मिल सकती है। परामर्श कंपनी बीसीजी (BCG) की रिपोर्ट में कहा गया है कि इससे दीर्घकाल में सकल घरेलू उत्पाद(जीडीपी) में 1.25 फीसदी की वृद्धि की संभावना है। गिग अर्थव्यवस्था से मतलब रोजगार की ऐसी व्यवस्था से है जहां स्थायी तौर पर कर्मचारियों (Employees) को रखे जाने के बजाए अल्प अवधि के लिए अनुबंध पर रखा जाता है। गिग अर्थव्यवस्था कोई नई धारणा नहीं है,बल्कि प्रौद्योगिकी के साथ इसे तेजी से अपनाया जा रहा है। कुछ साल पहले जब बिना रोजगार सजन के वद्वी की बात कही जा रही थी,सरकार ने अस्थायी तौर पर सृजित होने वाले रोजगार (Employment) यानी गिग अर्थव्यवस्था रोजगार की बात कही थी।


यह भी पढ़ें: बड़ी राहत ! Auto-Debit रहेगा जारी-मोबाइल,बिजली या दूसरे बिल की पेमेंट नहीं होगी फेल

उसी के अनुरूप परामर्श कंपनी बीसीजी की रिपोर्ट में कहा गया है कि अल्पावधि से दीर्घावधि में कुशल,कम कुशल और साझा सेवा क्षेत्र में करीब 2.4 करोड़ रोजगार के अवसर सृजित हो सकते हैं। इसी रिपोर्ट में बताया गया है कि सर्वाधिक सात करोड़ (Temporary Jobs) अस्थायी नौकरियां निर्माण,विनिर्माण,परिवहन और लॉजिस्टिक्स तथा व्यक्तिगत सेवा क्षेत्रों में हैं। बीसीजी के मुताबिक इसका अनुमान विभिन्न क्षेत्रों में रोजगार के प्रकार का विस्तृत अध्ययन पर आधारित है। इसको लेकर 600 से ज्यादा परिवारों के बीच सर्वे किया गया तथा उद्योग विशेषज्ञों (Industry Experts) से राय ली गई।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है