Covid-19 Update

2, 54, 410
मामले (हिमाचल)
2, 34, 850
मरीज ठीक हुए
3899*
मौत
38,218,773
मामले (भारत)
340,535,968
मामले (दुनिया)

राजा आदित्य देव चंद कटोच पंचतत्व में विलीन, लंबागांव में नम आंखों से दी विदाई

बेटे ऐश्वर्य देव चंद कटोच ने दी चिता को मुखाग्नि, राज परंपरा के अनुसार हुआ अंतिम संस्कार

राजा आदित्य देव चंद कटोच पंचतत्व में विलीन, लंबागांव में नम आंखों से दी विदाई

- Advertisement -

लंबागांव। पूर्व केंद्रीय मंत्री चंद्रेश कुमारी (Former Union Minister Chandresh Kumari) के पति और लंबागांव रियासत के 488वें राजा आदित्य देव चंद कटोच (Raja Aditya Dev Chand Katoch) का गुरुवार को लंबागांव स्थित कुंजद्वार श्मशानघाट पर हिंदू रीति-रिवाज एवं राज परंपरा के अनुसार अंतिम संस्कार किया गया। उनकी चिता को मुखाग्नि उनके बेटे ऐश्वर्य देव चंद कटोच ने दी। बताते चलें कि पूर्व केंद्रीय मंत्री चंद्रेश कुमारी के पति आदित्य देव चंद कटोच का बुधवार शाम को धर्मशाला (Dharmshala) में 78 साल की उम्र में निधन हो गया था। वह पिछले कुछ समय से अस्वस्थ चल रहे थे। गुरुवार को 11 बजे के करीब राजा आदित्य देव चंद कटोच की पार्थिव देह धर्मशाला से राजमहल लंबागांव (Rajmahal Lambagaon) लाई गई] जहां दो बजे तक शव को अंतिम दर्शनों के लिए रखा गया।

यह भी पढ़ें:पूर्व केंद्रीय मंत्री चंद्रेश कुमारी के पति राजा आदित्य कटोच का निधन

इसके बाद उनकी अंतिम यात्रा कुंजद्वा श्मशानघाट को निकली। इनकी शव यात्रा में कांगड़ा-चंबा लोकसभा के पूर्व सांसद चंद्र कुमार (Former MP Chandra Kumar), सुलह के पूर्व विधायक जगजीवन पाल, जयसिंहपुर के पूर्व विधायक यादविंद्र गोमा, पूर्व केसीसी बैंक अध्यक्ष जगदीश सिपहिया, पूर्व केसीसी बैंक उपाध्यक्ष भगवान दास ठाकुर सहित सैंकड़ों लोगों ने भाग लिया। क्षेत्र के विधायक रविंद्र धीमान बीमार होने के चलते राजा की अंतिम यात्रा में शामिल नहीं हो सके। उनकी ओर से लंबागांव पंचायत के पूर्व प्रधान विनोद मेहरा ने श्रद्धांजलि अर्पित की।

 

 

1990 में कांग्रेस से थुरल विधानसभा क्षेत्र से लड़ा था चुनाव

राजा आदित्य देव चंद कटोच का जन्म 25 दिसंबर, 1943 में राजा ध्रुव देव चंद कटोच के घर हुआ। आदित्य देव चंद अपनी रियासत के 488वें राजा थे। उनकी शिक्षा दीक्षा दून स्कूल देहरादून से हुई थी। 4 दिसंबर, 1968 को उनकी शादी जोधपुर राजघराने के महाराज गजसिंह की बड़ी बहन रानी चंद्रेश कुमारी से हुई। अपने मधुर स्वभाव के लिए जाने वाले राजा आदित्य देव चंद ने 1990 में कांग्रेस से थुरल विधानसभा क्षेत्र से चुनाव लड़ा था।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group

 

 

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए Subscribe करें हिमाचल अभी अभी का Telegram Channel…

 

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है