Covid-19 Update

3,12, 506
मामले (हिमाचल)
3, 08, 258
मरीज ठीक हुए
4190
मौत
44, 664, 810
मामले (भारत)
639,534,084
मामले (दुनिया)

ट्रेन के ऊपर लगे ढक्कनों का खुल गया राज, यह रही वजह

कोच में हवा आने-जाने के लिए की गई व्यवस्था

ट्रेन के ऊपर लगे ढक्कनों का खुल गया राज, यह रही वजह

- Advertisement -

दुनियाभर में रेल (Train) एक स्थान से दूसरी जगह-जगह जाने के लिए बहुत अच्छा साधन माना जाता है। वैसे हवाई जहाज (Airplane) से भी सफर किया जाता है, लेकिन हवाई जहाज हर जगह को नहीं जोड़ते और अगर किसी देश या बड़ी सिटी में जाना हो तो हवाई जहाज सबकी पहली पसंद होगा, परंतु हर कोई इसमें सफर नहीं कर सकता है, जिसका सबसे बड़ा कारण भारी भरकम किराया है। इसके विपरीत रेल में सफर सस्ता पड़ता हैं और रेलवे लाइन (Railway Line) कई जगहों को आपस में जोड़ती हैं और आपने स्टेशन (station) तक आसानी से पहुंच जाते है। वहीं भारतीय रेल (Indian Railway) की बात करें तो इसे भारत की लाइफलाइन कहा जाता हैं। रेलवे विभाग और ट्रेनों से संबंधित कई ऐसा रोचक सवाल हैं, जो लोगों के मन में हमेशा बने रहते हैं। ऐसा ही एक मजेदार सवाल ट्रेन को लेकर इन दिनों सोशल मीडिया (Social Media) पर वायरल हो रहा है। इसमें पूछा गया कि ट्रेन की छतों पर छोटे-छोटे डिब्बे या ढक्कन क्यों लगे होते हैं। इसके जवाब कुछ लोगों ने दिए तो कुछ का सिर चकरा गया। आखिरकार इसका जवाब मिल गया है।


यह भी पढ़ें-यहां घर से बाहर निकलते ही जम जाती है पलकें, -55 डिग्री पारा, ऐसे रहते यहां लोग


यह इन ढक्कनों का राज

ट्रेन के कोच तो पूरी तरह पैक रहते हैं, सिर्फ दरवाजे (Door) और खिड़कियां खुली रहती हैं, लेकिन कई बार यह भी बंद हो जाती है और एसी कोच (AC Coach) में ऐसा ही होता है। ऐसे में कोच की छतों पर यह छोटे प्लेट इसलिए लगाए रहते हैं, ताकि इनमें से हवा पास हो सके। इन छोटे-छोटे ढक्कनों को रूफ वेंटिलेटर कहते हैं। ट्रेन के कोच में जब यात्रियों की संख्या ज्यादा हो जाती है इसके चलते एहतियातन इसे लगाया जाता है।

यह एक्सपर्ट्स की राय

कुछ रिपोर्ट्स में एक्सपर्ट्स के हवाले से बताया गया है कि लोगों को गर्मी या सफोकेशन से बचाने के लिए और हवा को पास करने के लिए ट्रेन के प्रत्येक कोच में यह खास व्यवस्था की जाती है और कोच के ऊपर गोलाकार रूप में यह डिजाइन बनाई जाती है। इनमें अंदर की तरफ एक जाली लगी होती हैए जो गैस पास करती है और ऊपर प्लेटें लगाई जाती हैंए ताकि बारिश में बाहर से पानी वगैरह अंदर ना आने पाए। ट्रेन के एक कोच में कई प्लेटें लगाई जाती हैं जिससे हवा आसानी से पास होती रहे। एक्सपर्ट्स का मानना है कि रूफ वेंटिलेटर ना लगने की वजह से अंदर काफी दिक्क्त हो सकती है। कोच के भीतर बढ़ने वाली गर्मी ट्रेन का संतुलन बिगाड़ भी सकती हैए जिससे कुछ भी हादसा हो सकता है। यही कारण है कि यह पूरी प्रक्रिया अपनाई जाती है।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group

 

- Advertisement -

loading...
Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




×
सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है