Covid-19 Update

2,00,043
मामले (हिमाचल)
1,93,428
मरीज ठीक हुए
3,413
मौत
29,821,028
मामले (भारत)
178,386,378
मामले (दुनिया)
×

जवान दिखना चाहते हैं तो इस राज को पढ़ लेना-बनी रहेगी खूबसूरती

धोसी पहाड़ी तक जाना होगा,वहां पहुंचकर खुद समझ जाओगे राज

जवान दिखना चाहते हैं तो इस राज को पढ़ लेना-बनी रहेगी खूबसूरती

- Advertisement -

कौन ऐसा शख्स होगा जो जिंदगी भर जवान नहीं दिखना चाहता,हर कोई चाहता है कि उसकी खूबसूरती (Beautiful) बनी रहे। हम आज आपको उसी खूबसूरती का राज बताने जा रहे हैं,जिससे आप वर्षों तक जवान दिख सकते हैं। इसके लिए आपको अपने ही देश में जाना होगा,वहां पहुंचकर आप खूबसूरती के राज को जान जाओगे। आईए आपको बताते हैं कि कितना सफर इसके लिए तय करना होगा। ये ज्यादा दूर नहीं बल्कि हरियाणा तक जाना होगा,वहीं पर जवान रहने का राज (Secret of Staying Young) छिपा पड़ा है।

यह भी पढ़ें: जिन्हें आप शाकाहार समझकर खाते हैं असल में वो हैं मांसाहार-पांच बिंदु पर करना गौर

हरियाणा में एक ऐसी जगह है जहां हमेशा जवान और खूबसूरत दिखने का राज छिपा है। ये स्थान अरावली पर्वत श्रृंखला के पास मौजूद (Dhosi Hill) धोसी पहाड़ी है। धोसी पहाड़ी दक्षिण हरियाणा एवं उत्तरी राजस्थान (South Haryana and North Rajasthan) की सीमाओं पर स्थित है। पहाड़ी का हरियाणा वाला भाग महेंद्रगढ़ जिले (Mahendergarh district) में स्थित है और सिंघाणा मार्ग पर नारनौल से पांच किमी दूरी पर है। पहाड़ी का राजस्थान वाला भाग झुंझुनू में स्थित है। अरावली पर्वत श्रृंखला (Aravalli Mountain Range) में पाई जाने वाली आयुर्वेदिक जड़ी-बूटी कायाकल्प है। कायाकल्प ऐसी औषधि है, जिससे त्वचा (Skin) तो अच्छी होती ही है साथ ही स्वास्थ्य भी दिनों-दिन अच्छा होता जाता है। आयुर्वेद में सबसे महान खोज च्यवनप्राश को माना जाता है, किन्तु ये कम लोग ही जानते हैं कि च्यवनप्राश (Chyawanprash) जैसी आयुर्वेदिक दवा धोसी पहाड़ी की ही देन तो है। आपको बता दे कि धोसी पहाड़ी अरावली पर्वत श्रृंखला के अंतिम छोर पर उत्तर-पश्चिमी हिस्से में एक सुप्त ज्वालामुखी है। यह उत्तरी अक्षांश और पूर्वी देशान्तर पर स्थित इकलौती पहाड़ी है, जो कई रहस्यमयी कारणों से चर्चित है। इस पहाड़ी का जिक्र विभिन्न धार्मिक पुस्तकों में भी मिलता है। यहां हजारों वर्ष से कोई विस्फोट नहीं हुआ, ऐसा कहा जाता है।


इस पहाड़ी के बारे में कहा जाता है कि,चमत्कार ऐसे हैं कि जो कोई भी इस पहाड़ी पर बैठकर वेद लिखता है,पहाड़ी उस व्यक्ति और वेद के महान तत्व अपने अंदर स्थापित कर लेती है। माना जाता है कि करीब 5100 वर्ष पूर्व पांडव (Pandavas) भी अपने अज्ञातवास के दौरान यहां आए थे। यानी आपकी सुंदरता बनी रहे,उसके लिए ये पहाडी ही है जो इस काम में मदद करती है।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए Subscribe करें हिमाचल अभी अभी का Telegram Channel

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है