हिमाचल प्रदेश चुनाव परिणाम 2017

BJP

44

INC

21

अन्य

3

हिमाचल प्रदेश चुनाव परिणाम 2022 लाइव

3,12, 506
मामले (हिमाचल)
3, 08, 258
मरीज ठीक हुए
4190
मौत
44, 664, 810
मामले (भारत)
639,534,084
मामले (दुनिया)

जानवरों के पास भूकंप को महसूस करने के लिए होती सिक्स्थ सेंस

शोध में आया सामने, अर्थक्वेक आने से 20 घंटे पहले होने लगते हैं विचलित

जानवरों के पास भूकंप को महसूस करने के लिए होती सिक्स्थ सेंस

- Advertisement -

यूं तो भूकंप आने का आज तक पता नहीं चल पाया कि यह कैसे आता है। मगर ऐसा माना जाता है कि कुछ पशुओं (Animal) के पास खास सूंघने की शक्ति होती है, जिससे वे भूकंप आने का पता लगा सकते हैं। इसके बारे में एक शोध हुआ है, जिसमें चौंकाने वाली जानकारी सामने आई है। ग्रेटर नोएडा में रहने वाले एक परिवार के लोग अपने पालतू जानवरों की बेचैनी और शोर से ही आधी रात 2 बजे उठ गए।उन्हें जानवरों को शांत करने और खुद भूकंप के समय सावधानी बरतने में अच्छी खासी मशक्कत करनी पड़ी। इस संबंध में वेटनरी डॉक्टर रीटा गोयल (Dr Rita Goyal) का मानना है कि जिसे हम सिक्स्थ सेंस (sixth sense) मानते हैं वह असल में जानवरों की स्वाभाविक खूबी होती है। उनकी सुनने की क्षमता और महसूस करने की क्षमता इंसानों के मुकाबले कई गुना ज्यादा होती है इसीलिए वह आवाजों और उससे होने वाले कंपन को बहुत पहले पकड़ लेते हैंण् इसी के साथ जानवर आमतौर पर जमीन से जुड़ा होता हैण् उसकी त्वचा धरती के संपर्क में होती है और उसकी सजा भी कंपन को बेहतर तरीके से दर्ज करती है।

यह भी पढ़ें:चौकिए मत, इंसानों की तरह मशरूम भी करते हैं आपस में बातचीत

इसीलिए जानवरों में तेज आवाज पर भूकंप पर या फिर तेज हवाएं चलने पर बेचैनी बढ़ जाती है। वहीं इस संबंध में कुछ वर्ष पहले इटली के उत्तरी हिस्से में एक शोध किया गया। उत्तरी इटली के उस हिस्से में जो भूकंप के लिहाज से संवेदनशील था वहां गाय भेड़ और कुत्तों में सेंसर लगाए गए उन सेंसर्स के रिजल्ट से ये पता चला कि यह जानवर भूकंप आने के कई घंटों पहले ही विचलित होने लगते हैं और तेज.तेज चलना और आवाज भी करना शुरू कर देते हैं। रिसर्च के लिए उत्तरी इटली के एक ऐसे हिस्से में जानवरों पर यह शोध किया जो भूकंप (earthquake) प्रभावित क्षेत्र माना जाता था उन्होंने छह गाइए पांच भेड़ और दो कुत्तों में एक्सीलरोमीटर लगाया कई महीनों तक उनकी एक्टिविटी पर नजर रखी गई रिसर्च के इन महीनों के दौरान तकरीबन 18000 भूकंप आए लेकिन उनमें से 12 भूकंप ऐसे थे जिनकी तीव्रता रिक्टर स्केल पर 4 या उससे ज्यादा दर्ज की गई।

sheep-and-dog

sheep-and-dog

इस शोध में सामने आया है कि कई बार बार जानवर भूकंप से 20 घंटे पहले से ही विचलित होने लगते हैं। इन जानवरों ने 28 किलोमीटर के दायरे तक में आने वाले भूकंप पर अपनी गतिविधियां तेज कर दी थी। शोध ने वालों का मानना था कि जानवर भूकंप के दौरान चट्टानों के हिलने से होने वाली आयोडाइजेशन को अपने फर के जरिए पकड़ लेते हैं। हालांकि किस गतिविधि का क्या मतलब निकाला जाए और कितने घंटे पहले उसे वार्निंग माना जाए इसके लिए बड़े पैमाने पर रिसर्च करने की जरूरत है।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है