Covid-19 Update

2,21,203
मामले (हिमाचल)
2,16,124
मरीज ठीक हुए
3,701
मौत
34,043,758
मामले (भारत)
240,610,733
मामले (दुनिया)

उपचुनाव: फतेहपुर कांग्रेस में बगावत , निश्वार सिंह उतरेंगे चुनावी रण में , हाईकमान को दो टूक

ठाकुर निश्वार सिंह बोले - जब तक कार्यकर्ताओं की कांग्रेस नहीं सुनेगी तब तक कुछ नहीं हो सकता

उपचुनाव: फतेहपुर कांग्रेस में बगावत , निश्वार सिंह उतरेंगे चुनावी रण में , हाईकमान को दो टूक

- Advertisement -

फतेहपुर। कांग्रेस की हालत यह है कि वे एक उम्मीदवार खड़ा करती है और उसके चार कार्यकर्ता बिदक जाते हैं। अर्की से लेकर फतेहपुर तक कांग्रेस का यही हाल है। पहले टिकट नहीं मिलने पर कार्यकर्ता मायुसी की घूंट पीकर रह जाते थे, लेकिन अब पार्टी के हालात बदल चुके हैं। प्यादे भी वजीर को खुली चुनौती देने से नहीं कतराते हैं।

यह भी पढ़ें:पूर्व सांसद राजन सुशांत पर बोले भवानी पठानिया,”हर चीज की एक्सपायरी डेट होती है”

फतेहपुर में धधकी बगावत की चिंगारी

हिमाचल में होने जा रहे उपचुनाव में कांग्रेस पार्टी ने प्रत्याशियों की घोषणा कर दी है। टिकटों की घोषणा होने के साथ ही कांग्रेस में बगावती चिंगारियां शोला बनकर धधक उठी है। एक तरफ अर्की में संजय अवस्थी को टिकट देने के विरोध में ब्लॉक कांग्रेस ने इस्तीफा दे दिया है, तो वहीं फतेहपुर में भी भवानी पठानिया को टिकट मिलने के बाद बगावत का ऐलान हो गया है। बगावत की यह मशाल निश्वार सिंह ने उठाई है।

ठाकुर निश्वार सिंह आजाद प्रत्याशी

फतेहपुर से भवानी पठानिया को टिकट देने के विरोधी नेताओं ने एक बैठक करके, आजाद प्रत्याशी के रूप में चुनाव लड़ने का मन बना लिया है। बागियों का मोर्चा ठाकुर निश्वार सिंह ने संभाला है। उन्होंने प्रदेश कांग्रेस के सियासी दिग्गजों को यह समझा दिया है कि कांग्रेस जब तक कार्यकर्ताओं की नहीं सुनेगी, तब तक वह गर्त से निकल कर सत्ता के सिंहासन पर नहीं बैठ पाएगी। वहीं, इस सियासी समर में उनके खेवनहार चेतन चंबियाल और रीता गुलेरिया बनेंगे। बता दें कि कांग्रेस का यह धरा शुरू से ही भवानी पठानिया को टिकट देने का विरोध कर रहा था। उन्होंने अपनी इस बात को पार्टी आलाकमान तक भी पहुंचा दिया था।

यह भी पढ़ें:जुब्बल कोटखाई में कांग्रेस एकजुट, उपचुनाव में कार्यकर्ता दिखाएंगे अपना दम

आलाकमान को दिखाई आंख

ठाकुर निश्वार सिंह का कहना है कि हमने पहले भी कांग्रेस आलाकमान से आग्रह किया था कि पैराशूट नेता हमारे ऊपर ना थोपा जाए, लेकिन आलाकमान ने दशकों से पार्टी की सेवा कर रहे कार्यकर्ताओं को दरकिनार करके, परिवारवाद को बढ़ाने का काम किया है। यदि एक परिवार को ही टिकट देना है तो परिवार सिर्फ अपने दम पर चुनाव लड़ता रहे। कार्यकर्ताओं से सहयोग की उम्मीद बिल्कुल ना करे।

 

दिलचस्प होगा मुकाबला

बता दें कि फतेहपुर में निश्चित तौर पर चुनावी मुकाबला रोचक होने वाला है। यहां कांग्रेस और हमारी पार्टी हिमाचल पार्टी के प्रत्याशी तय हैं। यानि भवानी पठानिया और डॉ. राजन सुशांत के साथ अब भाजपा की तरफ से कौन चुनावी रण में कूदता है यह देखना दिलचस्प होगा। हालांकि इससे पहले फतेहपुर में बीजेपी बगावत का दंश झेलती रही है और यह पहला मौका है। जब कांग्रेस में भी यहां बगावत होगी।

हिमाचल और देश-दुनिया के ताजा अपडेट के लिए like करे हिमाचल अभी अभी का facebook page

 

 

- Advertisement -

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है