Covid-19 Update

2,00,282
मामले (हिमाचल)
1,93,850
मरीज ठीक हुए
3,423
मौत
29,853,870
मामले (भारत)
178,745,302
मामले (दुनिया)
×

हवा में 10 मीटर आगे तक फैल सकता है कोरोना वायरस, यहां पढ़े सरकार की नई गाइडलाइन

सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पालन करने के साथ मास्क पहनना हमेशा बहुत जरूरी

हवा में 10 मीटर आगे तक फैल सकता है कोरोना वायरस, यहां पढ़े सरकार की नई गाइडलाइन

- Advertisement -

कोरोना वायरस ( Corona virus) से बचने के लिए सरकार तीन एहतियाती सरल उपाय अपनाने का संदेश दे रही है । इन में दो गज दूरी यानी सोशल डिस्टेंसिंग , मास्क लगाना और हाथ- मुंह साफ रखना शामिल है। अब सरकार ने पूरी तरह से ये मान लिया है कि कोरोना वायरस हवा से भी फैल सकता है। केंद्र सरकार के वैज्ञानिक सलाहकार के विजय राघवन ( Vijay Raghavan, Scientific Advisor to the Central Government) के आफिस की ओर से जारी गाइडलाइंस ( Guidelines) के मुताबिक एयरोसोल और ड्रॉपलेट्स कोरोना वायरस का प्रमुख कारण है। कोरोना संक्रमित व्यक्ति के ड्रॉपलेट्स हवा में दो मीटर तक जा सकते हैं, जबकि एयरोसोल उन ड्रॉपलेट्स को 10 मीटर आगे तक बढ़ा सकता है।

यह भी पढ़ें: ब्लैक फंगस से हिमाचल अछूता-शुगर व कैंसर से जूझ रहे कोरोना संक्रमित रहें सतर्क

एडवाइजरी के अनुसार किसी भी संक्रमित व्यक्ति की खांसी और छींक वायरस के फैलने का सबसे प्रमुख कारण है। खांसी और छींक के जरिए वायरस हवा में 10 मीटर दूर तक जा सकता है। ऐसे में सोशल डिस्टेंसिंग( Social Distancing) के नियमों का पालन करने के साथ मास्क पहनना हमेशा बहुत जरूरी है। इसके अलावा बिना लक्षण वाले कोरोना संक्रमित मरीज की छींक और खांसी से भी वायरस फैल सकता है। जमीन पर गिरे छींक और खांसी से निकले कण भी संक्रमण को फैलने की वजह बन सकते हैं।


यह भी पढ़ें: घर बैठे कोरोना टेस्ट की मंजूरी के बीच फिर बढ़े संक्रमण के मामले-कम हुई मौतें

 

क्या कहा गया है गाइडलाइन में….

-जिस तरह से खिड़कियों और दरवाजों को खोलने से हवा में गंध कम हो जाती है। उसी तरह से वेंटिलेशन और बेहतर हवा प्रवाह भी कोरोना संक्रमण के खतरे को कम करता है।

– वेंटिलेशन एक कम्युनिटी सुरक्षा है जो घर या काम पर हम सभी की सुरक्षा करती है। दफ्तरों, घरों और बड़े सार्वजनिक स्थानों में वेंटिलेशन की सलाह दी जाती है।

– गाइडलाइन में शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में समान रूप से प्राथमिकता के साथ घरों, दफ्तरों और अन्य सार्वजनिक भवनों में वेंटिलेशन में सुधार किए जाने चाहिए।

– पंखे, खुली खिड़कियां और दरवाजे, यहां तक कि थोड़ी खुली खिड़कियों से भी बाहरी हवा अंदर आती है और अंदर की हवा की गुणवत्ता में सुधार होता है। सरकार की गाइडलाइन के मुताबिक, क्रॉस वेंटिलेशन और एग्जॉस्ट फैन संक्रमण के प्रसार को कम करने में फायदेमंद होंगे।

– गाइडलाइन में दफ्तरों, सभागारों, शॉपिंग मॉल में गैबल फैन सिस्टम और रूफ वेंटिलेटर के इस्तेमाल की सिफारिश की गई है। इसमें कहा गया है कि बार-बार सफाई और फिल्टर बदला जाए।

इन बातों का रखना होगा ध्यान

गाइडलाइन में कहा गया है कि संक्रमित व्यक्ति के बात करते, हंसते, गाते, खांसते या छींकते वक्त डॉपलेट या एयरोसोल के रूप में सलाइवा और नसल बाहर आ सकते हैं। ये वायरस ट्रांसमिशन के प्राइमरी सोर्स हैं। यहां तक की बिना लक्षण वाला संक्रमित व्यक्ति भी वायरस ट्रांसमिट कर सकता है।

– बिना लक्षण वाले लोग भी संक्रमण फैला सकते हैं। इसलिए लोगों को मास्क, दो मास्क या एक एन 95 मास्क पहनना चाहिए।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group 

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है