Covid-19 Update

2, 84, 982
मामले (हिमाचल)
2, 80, 760
मरीज ठीक हुए
4117*
मौत
43,131,822
मामले (भारत)
525,904,563
मामले (दुनिया)

दहेज के लिए घर से निकाली गई थी मधुमिता, स्थापित कर दिया वुडक्राफ्ट का बड़ा ब्रांड

बढ़ई का काम करने वालों से सीखी कारीगरी

दहेज के लिए घर से निकाली गई थी मधुमिता, स्थापित कर दिया वुडक्राफ्ट का बड़ा ब्रांड

- Advertisement -

महज एक लाख रुपए दहेज की खातिर एक लड़की को शादी के आठ महीने बाद उसके पति और ससुराल वालों ने घर से निकाल दिया। बेतरह सतायी गई हताश लड़की माता-पिता के घर लौटी तो डिप्रेशन में चली गई। उम्मीदें एकबारगी चकनाचूर हो गई। जिंदगी बोझ लगने लगी। फिर उन्होंने खुद को संभाला, हौसला समेटा। पास के गांव में बढ़ई का काम करने वालों से लकड़ी की कारीगरी सीखी।

यह भी पढ़ें:ये थी कश्मीर की आखिरी हिंदू रानी, पिता के हत्यारे से रचाई थी शादी

इसके बाद अपना छोटा सा काम शुरू किया और कुछ ही सालों में देखते-देखते वुडक्राफ्ट (WoodCraft) का ‘पीपल ट्री’ नामक इतना बड़ा ब्रांड खड़ा कर लिया कि आज उन्होंने दो सौ से भी ज्यादा महिलाओं को रोजगार दे रखा है। यह कहानी है झारखंड (Jharkhand) के एक छोटे से शहर घाटशिला की रहने वाली मधुमिता साव की।

 

घर से हुई बेहर

साल 2012 में घाटशिला कॉलेज से ग्रेजुएशन पूरी करने के कुछ महीनों बाद ही मधुमिता साव की शादी हो गई। शिक्षक पिता को अहसास था कि रिटायरमेंट के पहले बिटिया की शादी कर उन्होंने एक बड़ी जिम्मेदारी पूरी कर ली है, लेकिन ससुराल की देहरी पर कदम रखने के कुछ रोज बाद ही मधुमिता के पति और ससुराल वाले हर रोज नई डिमांड करने लगे। मायके वालों ने शुरुआत में उनकी कुछ मांगें पूरी भी की, लेकिन सिलसिला रुका नहीं। एक लाख रुपए की नई मांग को लेकर उन्हें प्रताड़ित किया जाने लगा। माता-पिता बेबस थे। इधर ससुराल वालों ने एक रोज उन्हें घर बदर कर दिया।

डिप्रेशन का हुई शिकार

मधुमिता बताती हैं, मैं एक सामान्य गृहिणी बनने के सपने के साथ ससुराल गई थी। जब मायके लौटना पड़ा तो मायूसियां हावी थीं। माता, पिता और भाई ने हिम्मत बंधाई, लेकिन मैं डिप्रेशन से घिर गई। दूर के रिश्तेदार और जानने वाले ताना देते थे। आंखों के सामने अंधकार था। हताशा इतनी थी कि मैं यह भी भूल गई थी कि मैंने पढ़ाई की है और उसकी बदौलत मैं खुद कुछ कर सकती हूं।

ऐसे मिली काम करने की प्रेरणा

इन हालातों से उबरने में उन्हें तकरीबन ढाई-तीन साल लग गए। वह एक रोज जमशेदपुर गई थीं तो उन्होंने सड़क के किनारे कुछ लोगों को की-रिंग बेचते देखा। जिज्ञासा हुई कि लकड़ियों के छोटे टुकड़े से इसे बनाते कैसे हैं। फिर उन्होंने घाटशिला लौटकर गांव के कारीगरों से काम सीखना शुरू किया।

शुरू किया काम करना

साल 2015 में उन्होंने तीन स्थानीय आदिवासी महिलाओं के साथ मिलकर लकड़ी की की-रिंग बनाने का छोटा सा काम शुरू किया। इसके बाद लकड़ी के कई अन्य तरह के शो-पीस बनाने लगीं। साल भर में ही दर्जन भर जरूरतमंद महिलाएं जुड़ गईं। इस काम को आगे बढ़ाने में भाई उत्पल साहू ने बहुत मदद की।

स्थापित किया पीपल ट्री

फिर साल 2016 में उन्होंने पीपल ट्री (Peepal Tree) नामक एक संस्था शुरू की और इसके जरिए बड़ी संख्या में महिलाओं को कारीगरी का प्रशिक्षण देकर उनके बनाये उत्पादों को बेचने के लिए एक छोटा सा आउटलेट खोला। इसके लिए जगह एक फर्नीचर शोरूम के मालिक ने अपने यहां जगह दी। यह एक बड़ी मदद थी।

बना जाना-माना ब्रांड

आज पीपल ट्री झारखंड का एक जाना-माना ब्रांड बन चुका है। इनके बनाए वुडक्राफ्ट प्रोडक्ट्स राज्य के बाहर भी खूब बिकते हैं। झारखंड में पीपल ट्री के नौ आउटलेट हैं। रांची, पतरातू वैली, जमशेदपुर के पीएम मॉल, बुरुडीह डैम, नेतरहाट सहित अन्य स्थानों पर इन आउटलेट्स को शानदार रिस्पॉन्स मिल रहा है। पीपल ट्री का सालाना टर्नओवर लगभग 60 लाख है। पीपल ट्री की वेबसाइट से भी देश-विदेश के लोग अच्छी संख्या में खरीदारी करते हैं।

इतनी महिलाएं करती हैं काम

मधुमिता बताती हैं कि फिलहाल हमारी संस्था के साथ 230 महिलाएं जुड़ी हैं। ये प्रतिमाह सात-आठ हजार से लेकर 15 हजार रुपए तक की कमाई कर लेती हैं। पीपल ट्री ने पूर्वी सिंहभूम जिले के पोटका, घाटशिला और मतलाडीह में प्रोडक्शन सेंटर स्थापित किए हैं। कई महिलाएं ऐसी हैं, जो घर से भी काम करती हैं।

आत्मनिर्भर बन रही महिलाएं

आगामी अगस्त-सितंबर से संस्था की ओर से नए प्रोजेक्ट्स शुरू करने की योजना है। इनसे भी काफी संख्या में लोगों के जुड़ने की उम्मीद है। वह कहती हैं, मुझे खुशी है कि हमारे उद्यम से जुड़कर ऐसी महिलाएं आत्मनिर्भर हुईं हैं, जो अपनी हर जरूरत के लिए पति या पुरुष सदस्यों पर आश्रित थीं।

जल्द करेंगी ये बड़ी पहल

मधुमिता इन दिनों किताबें पढ़ने में जुटी हैं। वह कमजोर वर्ग के बच्चों की पढ़ाई के लिए जल्द ही एक बड़ी पहल करने वाली हैं। फिलहाल, उनकी संस्था तीन जिलों में आवासीय बालिका विद्यालयों की छात्राओं को भी वुडक्राफ्ट की ट्रेनिंग देती हैं, ताकि जब वो स्कूल से निकले तो उनके हाथ में हुनर हो। संस्था जमशेदपुर के गोलमुरी स्थित एक अनाथालय को भी सपोर्ट करती है।

–आईएएनएस

हिमाचल और देश-दुनिया के ताजा अपडेट के लिए like करे हिमाचल अभी अभी का facebook page

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है