Covid-19 Update

2, 84, 964
मामले (हिमाचल)
2, 80, 747
मरीज ठीक हुए
4117*
मौत
43,125,370
मामले (भारत)
523,559,119
मामले (दुनिया)

विधानसभा के गेट पर खालिस्तान के झंडे लगना सरकार की नाकामी : सुक्खू

प्रदेश में कानून एवं व्यवस्था पूरी तरह ध्वस्त हो चुकी

विधानसभा के गेट पर खालिस्तान के झंडे लगना सरकार की नाकामी : सुक्खू

- Advertisement -

शिमला। हिमाचल प्रदेश कांग्रेस चुनाव प्रचार समिति के अध्यक्ष व स्क्रीनिंग समीति के सदस्य सुखविंदर सिंह सुक्खू ( Sukhwinder Singh Sukhu)ने कहा कि धर्मशाला स्थित विधानसभा( Vidhansabha) भवन के मुख्य गेट पर खालिस्तान के झंडे लगना सरकार की नाकामी है। प्रदेश में कानून एवं व्यवस्था का दिवाला निकल चुका है।

यह भी पढ़ें:विक्रमादित्य सिंह बोले: सीएम जयराम करें खालिस्तानियों पर कार्रवाई, नहीं तो हम देंगे जवाब

इस घटना ने साबित कर दिया है कि जयराम सरकार( JaiRam govt) प्रशासनिक रूप से पूरी तरह अक्षम है। सरकार मामले की गंभीरता को देखते हुए समयबद्ध तरीके से आरोपियों को पकड़कर सलाखों के पीछे भेजे।

यह भी पढ़ें:डॉ.सिकंदर बोले- आम आदमी पार्टी सिर्फ मीडिया में जनता में नहीं, सरकार तो बीजेपी ही बनाएगी

बकौल सुक्खू, सवाल यह भी उठता है कि विधानसभा की सुरक्षा व्यवस्था में चूक कहां हुई, क्या पुलिस मुस्तैद नहीं थी। झंडे लगाने वाले विधानसभा परिसर तक पहुंच गए और सुरक्षा एजेंसियों को भनक तक नहीं लगी, इसे क्या समझा जाए। खालिस्तान समर्थकों की धमकी के बावजूद सरकार का चैन की नींद सोए रहना उसकी कार्यप्रणाली पर प्रश्न चिन्ह लगाता है।
सुक्खू ने कहा, इससे यही प्रतीत होता है कि हिमाचल में अब तक कि सबसे कमजोर सरकार है। जो सरकार प्रदेश की रक्षा न कर सके, उसे सत्ता में बने रहने का कोई हक नहीं। सुरक्षा व्यवस्था में चूक के लिए जिम्मेदार लोगों पर भी कड़ी कार्रवाई की जाए।

यह भी पढ़ें:सीएम जयराम बोले: जमीन खोद कर बाहर निकाले जाएंगे पुलिस भर्ती के अन्य आरोपी

पेपर लीक पर कसा तंज, मैं ही चोर और मैं ही कोतवाल

सुखविंदर सुक्खू ने पुलिस भर्ती के पेपर लीक पर भाजपा सरकार पर तंज कसा है। उन्होंने कहा कि इस मामले में स्थिति “मैं ही चोर और मैं ही कोतवाल” वाली है। यह पेपर पुलिस के पास से लीक हुआ और अब उसकी जांच भी पुलिस ही करेगी। इससे साफ हो गया है कि सरकार में भ्रष्टाचार चरम पर है। सरकार का कण-कण भ्रष्टाचार में डूबा हुआ है। पेपर लीक की जांच सीबीआई या हाईकोर्ट के सिटिंग जज से कराई जानी चाहिए। इससे दूध का दूध और पानी का पानी होगा। इस मामले में संलिप्त बड़े लोग भी बेनकाब होंगे।

हिमाचल और देश-दुनिया के ताजा अपडेट के लिए like करे हिमाचल अभी अभी का facebook page

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है