×

Sixth Pay Commission : हिमाचल को सिफारिशें लागू करने के लिए चाहिए 5 हजार करोड़!

सीएम जयराम ठाकुर ने कहा था हम मूल्यांकन कर रहे हैं

Sixth Pay Commission : हिमाचल को सिफारिशें लागू करने के लिए चाहिए 5 हजार करोड़!

- Advertisement -

शिमला। पंजाब सरकार ने जैसे ही बजट में छठा वेतन आयोग (Sixth Pay Commission) लागू करने का ऐलान किया तो हिमाचल (Himachal) में कर्मचारियों की उम्मीदें भी जवां हो गईं, लेकिन जयराम सरकार (Jairam Govt) के लिए अब यह नई दिक्कत बनने वाली है। दरअसल अगले साल चुनाव (Election) हैं। ऐसे में देर सवेर जयराम सरकार को इस पर भी फैसला लेना होगा, लेकिन असल सवाल यहां भी बजट (Budget) का ही खड़ा होता है। दरअसल कल सीएम जयराम ठाकुर (CM Jairam Thakur) से जब छठे वेतन आयोग को लेकर सवाल किया गया तो उन्होंने आनन-फानन में यह कहते हुए सवाल को चलता कर दिया कि इसका मूल्यांकन (Assessment) किया जा रहा है।


यह भी पढ़ें: टुटू-चौपाल-धर्मपुर विकास खंडों में पंचायत चुनाव का ऐलान, पढ़ें पूरा शेड्यूल

ऐसे में हिमाचल को छठा वेतन आयोग (Sixth Pay Commission) लागू करना है तो सरकार को इसलिए लिए कितनी रकम चाहिए होगी। दरअसल एक मोटे अनुमान के मुताबिक पंजाब की तर्ज पर हिमाचल (Himachal) में भी छठा वेतन आयोग लागू होता है तो इसके लिए जयराम सरकार को करीब 5 हजार करोड़ रुपए (Five Thousand Crores) चाहिए होगा। उधर, बजट पर चर्चा का जवाब शुक्रवार को सीएम जयराम ठाकुर (CM Jairam Thakur) को देना है। इसलिए देखना होगा कि उस दिन इस बारे में क्या कुछ सीएम जयराम ठाकुर कहते हैं।

यह भी पढ़ें: SDM ग्राहक बन शराब लेने पहुंचे ठेके, सेल्स मैन ओवर चार्जिंग को लेकर बताने लगा कानून

आपको बता दें कि हिमाचल में इस समय एक लाख 81 हजार से ज्यादा रेगुलर कर्मचारी (Regular Employee) है। इसके अलावा 25 हजार से अधिक ज्यादा कॉन्ट्रैक्ट वर्कर्स (Contract Workers), 15 हजार से ज्यादा कर्मचारी आउटसोर्स और छह हजार से ज्यादा कर्मचारी (Employee) दिहाड़ी में काम कर रहे हैं। अब छठे वेतन आयोग की सिफारिशों को लागू किया जाता है तो निश्चित तौर पर इन सभी को लाभ मिलेगा। इसके अलावा 1 लाख 50 हजार से ज्यादा पेंशनर्स भी इसमें आप शामिल कर लें।

अब कर्मचारियों और पेंशनर्स को नया वेतनमान दिया जाता है तो इसके लिए जयराम सरकार को हर महीने 150 से 200 करोड़ रुपए चाहिए होंगे। यही खर्च सरकार के लिए सिरदर्द होगा, लेकिन इतना तय है कि अगले साल चुनाव हैं। ऐसे में सरकार किसी भी तरह का रिस्क तो कतई नहीं लेना चाहेगी, लेकिन इतनी बड़ी राशि जुटाने के लिए सरकार को भी कई जतन करने होंगे।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group 

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है