×

RTGS-NEFT को लेकर RBI ने लिया बड़ा फैसला, विस्तार से जानिए क्या किया बदलाव

अभी तक केवल बैंकों को ही थी यह सुविधाf

RTGS-NEFT को लेकर RBI ने लिया बड़ा फैसला, विस्तार से जानिए क्या किया बदलाव

- Advertisement -

नई दिल्ली। ग्राहकों को सुविधाएं प्रदान करने के लिए भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) समय के साथ कुछ ना कुछ बदलाव करता रहता है। आरबीआई अब ग्राहकों को और सुविधा दे रहा है।नेशनल इलेक्ट्रॉनिक ट्रांसफर (NEFT) और रियल टाइम ग्रॉस सेटेलमेंट (RTGS) तो काफी लोग करवाते हैं। आरबीआई ने NEFT और RTGS सुविधा को नॉन बैंक पेमेंट सिस्टम ऑपरेटरों के लिए बढ़ा दिया है। अभी तक केवल बैंकों को ही यह सुविधा थी। इसके अलावा रिजर्व बैंक ने डिजिटल पेमेंट की लिमिट को भी एक लाख से बढ़ाकर दो लाख रुपए कर दिया है।


यह भी पढ़ें: सूमो रेसलर की कॉस्ट्यूम पहन लड़िकयों ने किया मजेदार डांस, लोग हंसते-हंसते हुए लोटपोट

 

RBI ने डिजिटल पेमेंट की लिमिट की दोगुनी

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के अनुसार अब प्रीपेड पेमेंट इंस्ट्रूमेंट जारीकर्ता, कार्ड नेटवर्क, ह्वाइट लेबल एटीएम ऑपरेटर और ट्रेड रिसीवेबल्स डिस्काउंट सिस्टम प्लेटफार्म भी आरटीजीएस और एनईएफटी का उपयोग कर सकेंगे। आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास ने कहा, ‘रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया द्वारा संचालित केन्द्रीय भुगतान प्रणाली आरटीजीएस और एनईएफटी की सदस्यता कुछ अपवादों को छोड़कर सिर्फ बैंक तक ही सीमित था। इसका दायरा अब बढ़ाया जा रहा है जिससे सबसे ज्यादा फायदा पेटीएम, फोन पे, गूगल पेमेंट जैसे ऑनलाइन यूजर्स को होगा।

इसी के साथ रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने डिजिटल पेमेंट को बढ़ावा देने के लिए ट्रांसफर लिमिट बढ़ाने का फैसला किया है यानी अब फोन पे, पेटीएम जैसे ऑनलाइन पेमेंट मोड के जरिए कस्टमर दो लाख रुपए तक ट्रांसफर कर पाएंगे। पहले यह लिमिट एक लाख रुपए तक ही थी। हालांकि इस लिमिट को 5 लाख रुपए तक बढ़ाने की मांग की जा रही थी। फिलहाल इतनी ही लिमिट बढ़ाई गई है।

जानिए क्या है आरटीजीएस और एनईएफटी

जो लोग आरटीजीएस और एनईएफटी के बारे में नहीं जानते उनको बता दें कि आरटीजीएस (Real Time Gross Settlement) फंड ट्रांसफर करने की एक तेज प्रक्रिया है। इस सिस्टम के जरिए आप एक बैंक अकाउंट से दूसरे में पैसे ट्रांसफर कर सकते हैं। आरटीजीएस और NEFT में अगर अंतर देखा जाए तो दोनों का काम बैंक अकाउंट में इलेक्ट्रानिक फंड ट्रांसफर है। एनईएफटी में जहां पैसे ट्रांसफर करने की कोई लिमिट नहीं है तो वहीं आरटीजीएस में आपको कम से कम दो लाख रुपये का ट्रांसफर करना होगा। एनईएफटी में फंड दूसरे खाते में पहुंचने में थोड़ा समय लगता है पर RTGS में यह तुरंत पहुंच जाता है। आईएमपीएस में तुरंत दूसरे के खाते में पैसे ट्रांसफर हो जाते हैं। ये सर्विस हर समय काम करती है। काफी लोगों को इसकी जरूरत होती है उनका काम अब और आसान हो जाएगा।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group 

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है