Covid-19 Update

2,26,859
मामले (हिमाचल)
2,22,190
मरीज ठीक हुए
3,825
मौत
34,555,431
मामले (भारत)
260,661,944
मामले (दुनिया)

हिमाचल के इस जिला में ट्रैकिंग पर लगाई रोक, डीसी ने जारी किए ये नए आदेश

कांगड़ा जिला में आपदा प्रबंधन को लेकर सात स्वचलित मौसम स्टेशन किए गए स्थापित

हिमाचल के इस जिला में ट्रैकिंग पर लगाई रोक, डीसी ने जारी किए ये नए आदेश

- Advertisement -

धर्मशाला। प्रदेश के जिला कांगड़ा में पर्वतीय दर्रों पर ट्रैकिंग के लिए प्रतिबंध लगा दिया गया है। मंगलवार को जिला दंडाधिकारी एवं उपायुक्त डॉ निपुण जिंदल ने जिले में तीन हजार मीटर से ऊपर की सभी पर्वतीय चोटियों पर ट्रैकिंग (Tracking) करने के लिए रोक लगाने के आदेश जारी किए। जिला में आपदा प्रबंधन एक्ट, 2005 की धारा 34 के तहत ये आदेश जारी किए गए हैं। जानकारी के अनुसार लाहुल-स्पीति और किन्नौर में ट्रैकर्ज के साथ पेश आई दुर्घटनाओं को देखते हुए जिला कांगड़ा (Kangra) में ये फैसला लिया गया है। जिला दंडाधिकारी ने बताया कि यह आदेश आम जनता और ट्रैकर्ज (Trekkers) की सुरक्षा के मद्देनजर जारी किए गए हैं। उन्होंने कहा कि आदेशों की उल्लंघना करने वालों के विरूद्ध आपदा प्रबंधन एक्ट 2005 की धारा 51-60 के तहत कानूनी कार्रवाई अमल में लाई जाएगी।

यह भी पढ़ें:हिमाचल: उत्तराखंड से निकला ट्रैकिंग दस्ता मौसम खराब होने के बाद लापता

कांगड़ा जिला में आपदा प्रबंधन को लेकर सात स्वचलित मौसम स्टेशन स्थापित किए गए हैं और इन स्टेशनों के माध्यम से मौसम की जानकारी उपलब्ध करवाई जाएगी। डीसी कांगड़ा (DC Kangra) निपुण जिंदल ने बताया कि प्रारंभिक चरण में स्वचालित मौसम स्टेशन जिला कांगड़ा के आवेरी, बीड़, खास, दरूग, नपोहता, कोहर खास, करनाथू और डंडेल में स्वचलित मौसम स्टेशन बनाए गए हैं। उन्होंने कहा कि अगले चरण में जिले के अन्य क्षेत्रों में भी स्वचालित मौसम स्टेशन स्थापित किए जाएंगे। डीसी कांगड़ा जिंदल ने कहा कि यह मौसम स्टेशन आपदा प्रबंधन में काफी कारगर साबित होंगे। मौसम स्टेशन के उपकरणों के माध्यम से आपदा के दौरान किसी भी तरह की भारी बारिश, आंधी, तूफान आदि के बारे में अलर्ट की सूचना जिला आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के साथ-साथ संबंधित पंचायत प्रतिनिधियों तक भी पहुंच जाएगी।

यह भी पढ़ें:हिमाचल: ग्लेशियर में फंसे पर्वतारोही दल का हुआ रेस्क्यू, आज चांगो धार रुकेगा दल, अब तक दो की टूट चुकी हैं सांसें

बता दें कि हिमाचल प्रदेश में पिछले कुछ दिनों जिला शिमला (Shimla) के रोहडू के जांगलिख से किन्नौर जिले के पर्यटन स्थल सांगला की ओर निकले 22 सदस्यीय ट्रैकिंग दल के तीन सदस्यों की बर्फ में दबने से मौत हो गई थी। ये तीनों ट्रैकर 15 हजार फीट की ऊंचाई पर बुरन दर्रे में बर्फ में फंस गए थे, जिनके शवों को 20 सदस्यीय रेस्क्यू दल द्वारा रेस्क्यू किया गया था। जबकि पोर्टर और गाइड समेत 19 ट्रैकर को बचाव दल द्वारा सुरक्षित निकाल लिया गया था। इससे पहले लम्खागा दर्रे से 11 में से 7 ट्रैकरों के शव बरामद कर लिए गए थे, जबकि दो को घायल अवस्था में रेस्क्यू किया गया था।

हिमाचल और देश-दुनिया के ताजा अपडेट के लिए like करे हिमाचल अभी अभी का facebook page

 

 

 

 

 

- Advertisement -

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है