Covid-19 Update

2,59,566
मामले (हिमाचल)
2,38,316
मरीज ठीक हुए
3914*
मौत
38,903,731
मामले (भारत)
347,844,974
मामले (दुनिया)

करतारपुर कॉरिडोर में मिले दो भाई, 74 साल पहले हुए थे अलग, देखें वीडियो

बंटवारे के वक्त दोनों भाई हुए थे अलग

करतारपुर कॉरिडोर में मिले दो भाई, 74 साल पहले हुए थे अलग, देखें वीडियो

- Advertisement -

1947 में हुए भारत (India) और पाकिस्तान के बंटवारे में कई परिवार बिछड़ गए। बीते दिन ट्विटर पर एक ऐसी ही वीडियो वायरल हुई, जिसमें दो भाई 74 साल बाद फिर एक-दूसरे से मिले। वीडियो देख कर हर किसी की आंखें नम हो गई हैं। इनमें से एक भाई बंटवारे के बाद भारत और दूसरा भाई पाकिस्तान में बस गया था। दोनों भाई पाकिस्तान (Pakistan) के गुरुद्वारा दरबार साहिब को भारत से जोड़ने वाले करतारपुर कॉरिडोर में मिले।

यह भी पढ़ें-खुश हो जाओ-अभी लंबी पारी खेलनी है आपको, वैज्ञानिक का हैरान कर देने वाला दावा

बता दें कि पाकिस्तान के पंजाब प्रांत में स्थित करतारपुर गुरुद्वारा दरबार साहिब में भारत और पाकिस्तान दोनों देशों के श्रद्धालुओं का आना-जाना लगा रहता है। वायरल वीडियो में दो भाई एक-दूसरे से 74 साल बाद मिलते हुए नजर आ रहे हैं। दोनों भाइयों का भावुक कर देने वाला वीडियो सोशल मीडिया पर काफी वायरल हो रहा है। दरअसल, 80 साल के मोहम्मद सिद्दीक बंटवारे के वक्त अपने परिवार से अलग हो गए थे। अब वह पाकिस्तान के फैसलाबाद शहर में रहते हैं। वहीं, उनके भाई हबीब उर्फ शेला भारत के पंजाब में रहते हैं।

बताया जा रहा है कि सोशल मीडिया के जरिए हबीब के परिवार ने उनके बिछड़े भाई का पता लगाया और फिर जब सिखों के पावन तीर्थ स्थल करतारपुर कॉरिडोर को खोला गया, तब दोनों को मिलाने की तैयारी भी की। हबीब ने इस दौरान अपने भाई को बताया कि उन्होंने शादी नहीं की और आजीवन मां की सेवा करते रहे। वायरल वीडियो में दोनों एक दूसरे से मिल रहे हैं और खुशी के मारे भावुक होकर रो रहे हैं। दोनों भाइयों ने वादा किया कि वे दोनों जब भी कॉरिडोर आएंगे तो एक दूसरे से मिलते रहेंगे। ट्विटर पर ये वीडियो @Roohan_Ahmed के नाम के अकाउंट से शेयर की गई है। इन दोनों भाइयों की वीडियो लोगों को काफी पसंद आ रही है। वीडियो पर बहुत से लोग अपनी प्रतिक्रिया दे रहे हैं।

गौरतलब है कि ये यह पहला मौका नहीं है जब करतारपुर कॉरिडोर में ऐसा नजारा सामने आया है। पिछले साल भी यहां दो बिछड़े दोस्त कई दशकों बाद मिले थे। भारत के सरदार गोपाल सिंह अपने बचपन के दोस्त मोहम्मद बशीर से मिले थे। पंजाब के होशियारपुर जिले की रहने वाली सुनीता देवी ने भी पाकिस्तान में रह रहे अपने रिश्तेदारों से मिलने के लिए सीमा पार की। बंटवारे के समय सुनीता देवी के पिता भारत में रह गए, लेकिन उनके भाई पाकिस्तान के फैसलाबाद चले गए थे।

 


हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है