Covid-19 Update

1,99,430
मामले (हिमाचल)
1,92,256
मरीज ठीक हुए
3,398
मौत
29,685,946
मामले (भारत)
177,559,790
मामले (दुनिया)
×

Youtube का नुस्खा पड़ा महंगा, पपीते के पत्तों का काढ़ा पीने से भाई-बहन की गई जान; एक गंभीर

सोलन के नालागढ़ में पेश आई घटना, दो माह पहले हुई है पति की मौत

Youtube का नुस्खा पड़ा महंगा, पपीते के पत्तों का काढ़ा पीने से भाई-बहन की गई जान; एक गंभीर

- Advertisement -

नालागढ़। हिमाचल के सोलन (Solan) जिले के नालागढ़ (Nalagarh) में एक दिल दहला देने वाली खबर सामने आई है। यहां पपीते के पत्तों का काढ़ा पीने से भाई-बहन की मौत हो गई है। जबकि एक अन्य को गंभीर हालत में पीजीआई रेफर कर दिया गया है। घटना जोघों में प्रवासी परिवार के घर में सामने आई है। यहां प्रवासी महिला के दो बच्चों की मौत हुई है। बताया जा रहा है कि बच्चों को कुछ समय से बुखार था और उन्होंने यू ट्यूब (youtube) पर नुस्खा देखकर पपीते के पत्तों (Papaya leaves) का काढ़ा बनाकर पीया था। पुलिस ने मामला दर्ज कर छानबीन शुरू कर दी है। मिली जानकारी के अनुसार उत्तर प्रदेश के बदायूं के खजूरिया गांव की राम देवी पत्नी स्व. किशनपाल पिछले सात साल से जोघों में मेहनत मजदूरी कर अपने परिवार का पेट पाल रही थी। महिला की दो बेटियां और एक बेटा था। इनमें एक बेटी और एक बेटे की मौत हो गई, जबकि दूसरी बेटी पीजीआई (PGI) में भर्ती है। प्रवासी महिला के भतीजे ने बताया कि बच्चों को कुछ समय से बुखार था और उन्होंने यू ट्यूब पर इसके इलाज के लिए पपीते के पत्तों का काढ़ा बनाकर पीने का नुस्खा देखा था।

यह भी पढ़ें: चलती बस में कंडक्टर को आया हार्टअटैक, चालक ने अस्पताल पहुंचा कर बचाई जान


 

इसके बाद बच्चे भी पपीते के पत्ते लाए और कूटकर काढ़ा बनाकर पी लिया। इसके बाद उनकी तबीयत बिगड़ गई। तीनों को नालागढ़ अस्पताल (Nalagarh Hospital) लाया जा रहा था कि शिवानी (10) की रास्ते में मौत हो गई। उसके भाई सचिन (18) और बहन खुशबू (14) को बेहोशी की हालत में पीजीआई रेफर कर दिया गया। पीजीआई में सचिन की भी मौत हो गईए जबकि खुशबू की हालत नाजुक बनी हुई है। फरवरी में महिला के पति किशनपाल की शुगर की बीमारी से मौत हो गई थी। शिवानी का अंतिम संस्कार जोघों में कर दिया गया, जबकि बेटे का शव पीजीआई से लाकर पोस्टमार्टम के बाद परिजनों को सौंपा जाएगा। वहीं, बीएमओ नालागढ़ केडी जस्सल ने बताया कि पपीते के पत्तों का काढ़ा पीने से मौत नहीं हो सकती। औद्योगिक क्षेत्र होने के चलते पपीते के पत्तों पर जहरीले केमिकल हो सकते हैं। बिना धोए पत्तों का काढ़ा बनाकर पीने से तबीयत बिगड़ सकती है।

 

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group 

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है