हिमाचल प्रदेश चुनाव परिणाम 2017

BJP

44

INC

21

अन्य

3

हिमाचल प्रदेश चुनाव परिणाम 2022 लाइव

3,12, 506
मामले (हिमाचल)
3, 08, 258
मरीज ठीक हुए
4190
मौत
44, 664, 810
मामले (भारत)
639,534,084
मामले (दुनिया)

हिमाचल कैबिनेट बैठक शुरू, ठेकेदारों की हड़ताल और वेतन विसंगति आ सकता है फैसला

20 फरवरी से कर्मचारी सड़कों पर उतरने की शुरुआत करने जा रहे हैं

हिमाचल कैबिनेट बैठक शुरू, ठेकेदारों की हड़ताल और वेतन विसंगति आ सकता है फैसला

- Advertisement -

हिमाचल कैबिनेट की बैठक( Himachal cabinet meeting) सीएम जयराम ठाकुर की अध्यक्षता में शुरू हो गई है। अचानक बुलाई गई इस बैठक में परिवहन मंत्री बिक्रम ठाकुर व वन मंत्री राकेश पठानिया मौजूद नहीं है। कैबिनेट बैठक में में ठेकेदारों की हड़ताल और वेतन विसंगति को लेकर चर्चा की जाएगी। हिमाचल के संयुक्त कर्मचारी महासंघ ने वेतन विसंगति को लेकर सरकार के खिलाफ मोर्चा खोलने का ऐलान कर रखा है। 20 फरवरी से कर्मचारी सड़कों पर उतरने की शुरुआत करने जा रहे हैं। इसके बाद अन्य जिलों में भी धरने होंगे। महासंघ ने शिमला चलो का नारा दिया है, यानी जिला स्तर पर धरने के दौरान कर्मचारियों से शिमला आने की अपील की जाएगी और एक दिन बजट सत्र के दौरान विधानसभा का घेराव किया जाएगा।

यह भी पढ़ें- सीएम जयराम ठाकुर ने अचानक बुलाई कैबिनेट की बैठक, आठ मंत्री शिमला से बाहर

राज्य सरकार ने अपने कर्मचारियों को पंजाब की तर्ज पर छठे वेतनमान के लाभ देने के लिए 2.25 व 2.59 के पे-मैट्रिक्स का विकल्प चुनने का अवसर दे रखा है, लेकिन कर्मचारी इससे नाखुश हैं। इसे देखते हुए सीएम जयराम ठाकुर ने पूर्ण राज्यत्व दिवस पर 15 फीसदी वेतन बढ़ोतरी का तीसरा विकल्प कर्मचारियों को देने की घोषणा की, लेकिन 16 दिन बाद भी इस संदर्भ में अधिसूचना जारी नहीं की गई। चुनावी साल के कारण जयराम सरकार किसी को भी मायूस नहीं करना चाहती। इसलिए आज बुलाई गई आपात बैठक में 15 फीसदी वेतन बढ़ोतरी को लेकर निर्णय संभावित है, ताकि कर्मचारियों को खुश किया जा सके।

हिमाचल के ठेकेदार 7 फरवरी से हड़ताल पर हैं, क्योंकि PWD महकमा इन्हें कई महीनों की पेमेंट का भुगतान नहीं कर रहा है। इसका कारण M फार्म है। हाईकोर्ट ने M फार्म अनिवार्य कर रखा है, लेकिन ठेकेदारों का आरोप है कि क्रशर मालिक ही जब उन्हें M फार्म नहीं देते तो ठेकेदार इस फार्म को कैसे जमा कराएंगे। इतना ही नहीं ठेकेदार बिना फार्म के भी सालों से सरकार को रॉयल्टी देते आ रहे है। इसलिए इस मसले पर भी कैबिनेट में निर्णय लिया जा सकता है।

हिमाचल और देश-दुनिया के ताजा अपडेट के लिए like करे हिमाचल अभी अभी का facebook page

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है