Covid-19 Update

1,37,766
मामले (हिमाचल)
1,02,285
मरीज ठीक हुए
1965
मौत
22,992,517
मामले (भारत)
159,607,702
मामले (दुनिया)
×

हफ्ते में चार दिन ही करना होगा काम, तीन दिन मिलेगी छुट्टी !

नए श्रम कानूनों के तहत आने वाले दिनों में संभव

हफ्ते में चार दिन ही करना होगा काम, तीन दिन मिलेगी छुट्टी !

- Advertisement -

नई दिल्ली। नए श्रम कानूनों (New Labor Laws) के तहत कई नियम बदले गए हैं और ऐसा भी संभव है कि आने वाले समय में हफ्ते में चार दिन का और तीन दिन छुट्टी का प्रावधान हो जाए। श्रम मंत्रालय के मुताबिक केंद्र सरकार हफ्ते में चार कामकाजी दिन (Working Days) और उसके साथ तीन दिन वैतनिक छुट्टी का विकल्प दे सकती है। सरकार नए लेबर कोड में नियमों को 1 अप्रैल से लागू करना चाहती थी लेकिन राज्यों की तैयारी ना होने और कंपनियों को एचआर पॉलिसी (HR Policies) बदलने के लिए अधिक समय देने के लिए इन्हें फिलहाल टाल दिया गया है।


यह भी पढ़ें: इस बार करीब 15 घंटे का होगा रमजान का पहला रोजा, जानिए सहरी और इफ्तार का समय

नए लेबर कोड में नियमों में ये विकल्प भी रखा जाएगा, जिस पर कंपनी और कर्मचारी आपसी सहमति से फैसला ले सकते हैं। नए नियमों के तहत सरकार ने काम के घंटों को बढ़ाकर 12 तक करने को शामिल किया है। काम करने के घंटों की हफ्ते में अधिकतम सीमा 48 है, ऐसे में कामकाजी दिनों का दायरा पांच से घट भी सकता है।

ईपीएफ पर टैक्स लगाने को लेकर बजट (Budget) में हुए ऐलान पर श्रम सचिव का कहना है कि इसमें ढाई लाख रुपये से ज्यादा निवेश होने के लिए टैक्स सिर्फ कर्मचारी के योगदान पर लगेगा। कंपनी की तरफ से होने वाला अंशदान इसके दायरे में नहीं आएगा या उस पर कोई बोझ नहीं पडे़गा। इसके साथ ही छूट के लिए ईपीएफ और पीपीएफ (EPF and PPF) भी नहीं जोड़ा जा सकता। ज्यादा वेतन पाने वाले लोगों की तरफ से होने वाले बड़े निवेश और ब्याज पर खर्च बढ़ने की वजह से सरकार ने ये फैसला लिया है। श्रम मंत्रालय के मुताबिक 6 करोड़ में से सिर्फ एक लाख 23 हजार अंशधारक पर ही इन नए नियमों का असर होगा। वहीं, न्यूनतम ईपीएफ पेंशन को लेकर कोई प्रस्ताव वित्त मंत्रालय को भेजा ही नहीं गया था। जो प्रस्ताव श्रम एवं रोजगार मंत्रालय ने भेजे थे, उन्हें केंद्रीय बजट में शामिल कर लिया गया है।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group 

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है