×

ओवरस्पीड वाहन चालकों पर ऊना पुलिस का शिकंजा, स्पीड गन का हो रहा इस्तेमाल

हादसों पर लगाम कसने की कोशिश में जुटी पुलिस, तीन माह में काटे 5000 चालान

ओवरस्पीड वाहन चालकों पर ऊना पुलिस का शिकंजा, स्पीड गन का हो रहा इस्तेमाल

- Advertisement -

ऊना। वाहनों की ओवर स्पीड( Overspeed) हादसों का सबब बनती है और हादसे कभी किसी की जिंदगी छीन लेते हैं तो कभी किसी को अपाहिज बना देते हैं। किसी घर का चिराग बुझ जाता है तो किसी घर का सहारा ओवरस्पीड के कारण छिन जाता। जरूरी नहीं कि ओवरस्पीड वाहन चलाने वाला चालक ही इस हादसे का शिकार हो, कई बार राह चल रहे बेकसूर भी इस का शिकार हो जाते हैं और उनके पीछे उनके परिवार ताउम्र के लिए दुख भोगते हैं। जिला पुलिस( Police) ने इन दिनों इसी ओवर स्पीड पर लगाम कसने को कवायद छेड़ रखी है। मैदानी इलाका होने के चलते यहां पर वाहनों की रफ्तार जरूरत से ज्यादा रहती है। कभी कभार तो रोड पर एडवेंचर करने वाले युवा ना सिर्फ अपनी जान गवां बैठते हैं बल्कि राह चलते लोगों के लिए भी मौत के सौदागर बन जाते हैं। ऐसे वाहन चालकों पर जिला पुलिस बखूबी शिकंजा कस रही है और इस साल के मात्र तीन महीनों में ही ओवरस्पीड चलने वाले वाहन चालकों के करीब 5000 चालान किए जा चुके हैं।


यह भी पढ़ें: Himachal : शहर की बिगड़ती कानून-व्यवस्था पर भड़के रायजादा, बोले-चोर लुटेरे उठा रहे फायदा

 

 

ऊना( Una) में सड़कों पर सरपट दौड़ते ओवर स्पीड वाहन चालकों की अब खैर नहीं है। पुलिस ने ऐसे ही बिगड़ैल चालकों पर नकेल कसने के लिए आधुनिक तकनीक का सहारा लेते हुए मुहिम शुरू की है। ओवरस्पीड वाहनों को निर्धारित गति सीमा में लाने के लिए इन दिनों जिला पुलिस स्पीड गन ( Speed gun) का इस्तेमाल कर रही है। जिसके बलबूते पुलिस को करीब आधा किलोमीटर दूर से ही वाहनों की स्पीड का पता चल जाता है। आधुनिक तकनीक से लैस स्पीड गन का इस्तेमाल करते हुए जिला पुलिस ने पूरे हिमाचल प्रदेश में सबसे ज्यादा ओवर स्पीड के चालान ऊना जिला में अभी तक किए हैं। डीएसपी हेडक्वार्टर रमाकांत ठाकुर का कहना है कि रफ्तार के इन सौदागरों पर जिला पुलिस बखूबी नकेल कस रही है। हिमाचल प्रदेश में किसी में जिला का यह है अभी तक का सबसे अधिक आंकड़ा है।

 

 

रमाकांत ठाकुर का कहना है कि आमतौर पर देखा जाता है कि इस स्पीड के कारण लोग हादसों का शिकार होते हैं। इन हादसों पर लगाम कसने और लोगों की जान बचाने के लिए पुलिस द्वारा विशेष अभियान छेड़ा गया है। प्रदेश का मैदानी जिला होने के चलते ऊना की सड़कों पर वाहनों की रफ्तार गति सीमा से अधिक ही रहती है। यह न केवल वाहन चालकों के लिए बल्कि राहगीरों के लिए भी बहुत बड़ा खतरा है। इसी खतरे को कम करने के लिए पुलिस ने कमर कसी है और यह अभियान जिला के विभिन्न क्षेत्रों में आगे भी जारी रहेगा।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है