Covid-19 Update

1,98,313
मामले (हिमाचल)
1,89,522
मरीज ठीक हुए
3,368
मौत
29,439,989
मामले (भारत)
176,417,357
मामले (दुनिया)
×

3 मई को निजी बस ऑपरेटरों की हड़ताल को टैक्सी वालों का समर्थन-सरकार बोली मत करो Strike

ऑपरेटर बोले,जयराम सरकार ने हमेशा बेवकूफ ही बनाया,डीसी के मार्फत अल्टीमेटम

3 मई को निजी बस ऑपरेटरों की हड़ताल को टैक्सी वालों का समर्थन-सरकार बोली मत करो Strike

- Advertisement -

शिमला। आखिर निजी बस ऑपरेटरों (Private Bus Operators)के सब्र का बांध टूट ही गया। तीन मई से राजधानी शिमला सहित पूरे जिले में कोई भी निजी बस नहीं चलेगी। ये निर्णय हिमालयन निजी बस ऑपरेटर यूनियन (Himalayan Private Bus Operators Union) का है। यूनियन के प्रधान वीरेंद्र कंवर व महासचिव अतुल चैहान ने डीसी के मार्फत एक अल्टीमेटम (Ultimatum to Jairam Govt) जयराम सरकार को दिया है। इसमें कहा गया है कि अगर सोमवार से पहले उनकी बहुप्रतीक्षित टैक्स माफी एवं वर्किंग कैपिटल की मांग को नहीं माना गया तो तीन मई से जिला शिमला में कोई भी निजी बस नहीं चलेगी ।

यह भी पढ़ें: …तो क्या तीन मई से Himachal में नहीं चलेंगी निजी बसें, जानने को पढ़ें खबर

 


शिमला शहरी निजी बस ऑपरेटर यूनियन के महासचिव सुनील चौहान ने कहा कि जिला शिमला (Shimla) ही नहीं बल्कि प्रदेश क्या हर निजी बस ऑपरेटर सरकार के रवैये से खफा है। उनका कहना है कि जयराम सरकार ने निजी बस ऑपरेटर को हमेशा ही बेवकूफ बनाया है। इसलिए यह तय किया गया है कि 3 मई (3rd May) तक रूट परमिट को जमा करने के उपरांत निजी बस ऑपरेटर अनिश्चितकालीन हड़ताल (Indefinite Strike) पर चले जाएंगे। वहीं, मां भीमा काली निजी बस ऑपरेटर यूनियन रामपुर के प्रधान मनीष शर्मा ने कहा है कहा कि प्रदेश के निजी बस ऑपरेटर पिछले 8 महीने से टैक्स माफी की मांग एवं वर्किंग कैपिटल की मांग लगातार करते आ रहे हैं लेकिन सरकार द्वारा बार-बार आश्वासन के बावजूद कुछ नहीं हो रहा है। अब 3 मई को प्रदेश के निजी बस ऑपरेटर अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले जाएंगे तथा सरकार के विरुद्ध जगह-जगह धरना-प्रदर्शन करेंगे। उन्होंने कहा कि अगर प्रदेश सरकार उनकी मांगों को नहीं मानती है तो फतेहपुर एवं मंडी के उपचुनाव (By-Elections) में निजी बस ऑपरेटर एकजुट होकर प्रदेश सरकार के खिलाफ प्रचार करेंगे।

इसी बीच निजी बस ऑपरेटरों की हड़ताल के समर्थन में सीएम जयराम ठाकुर का गृह जिला मंडी टैक्सी एकता संगठन भी उतर गया है। उधर ,मामले की गंभीरता को देखते हुए परिवहन विभाग के प्रवक्ता ने कहा कि निजी बस ऑपरेटरों के क्रियाशील पूंजी एवं टैक्स माफी के प्रस्ताव हैं जिन पर सरकार गंभीरता से विचार कर रही है। इसे शीघ्र ही कैबिनेट की बैठक के समक्ष अनुमोदन के लिए प्रस्तुत किया जाएगा। उन्होंने सभी निजी बस ऑपरेटरों से प्रस्तावित हड़ताल को वापिस लेने का आग्रह किया है ।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group 

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है