Covid-19 Update

2,17,615
मामले (हिमाचल)
2,12,133
मरीज ठीक हुए
3,643
मौत
33,557,583
मामले (भारत)
230,543,349
मामले (दुनिया)

बच्चों में नहीं होते कोरोना के लंबे समय तक चलने वाले लक्षण, जल्द हो जाते हैं ठीक

लैंसेट चाइल्ड एंड अडोलेसेंट हेल्थ जर्नल में प्रकाशित हुआ अध्ययन

बच्चों में नहीं होते कोरोना के लंबे समय तक चलने वाले लक्षण, जल्द हो जाते हैं ठीक

- Advertisement -

लैंसेट चाइल्ड एंड अडोलेसेंट हेल्थ जर्नल ( Children do not have long lasting symptoms of corona, they get better soon)में प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार, कोविड-19 से पीड़ित अधिकांश बच्चे एक सप्ताह के भीतर ठीक हो जाते हैं और केवल एक छोटे प्रतिशत में ही दीर्घकालिक लक्षण होते हैं। किंग्स कॉलेज लंदन के शोधकतार्ओं द्वारा किए गए अध्ययन से पता चला है कि रोगसूचक कोविड -19( COVID-19) वाले 20 में से एक बच्चे में चार सप्ताह से ज्यादा समय तक रहने वाले लक्षणों का अनुभव होता है और लगभग सभी बच्चे आठ सप्ताह तक पूरी तरह से ठीक हो जाते हैं। बच्चों में बताए गए सबसे आम लक्षण सिरदर्द, थकान , गले में खराश और गंध की कमी (एनोस्मिया) के थे।निष्कर्षों से पता चला है कि, आश्वस्त रूप से, गंभीर न्यूरोलॉजिकल लक्षणों जैसे कि फिट या दौरे, बिगड़ा हुआ एकाग्रता या ध्यान, या चिंता की कोई रिपोर्ट नहीं थी।

यह भी पढ़ें: Corona Update: आज 220 लोग कोरोना पॉजिटिव, 1414 पहुंची एक्टिव केसों की संख्या

 

लंदन के किंग्स कॉलेज से प्रोफेसर एम्मा डंकन ने कहा, “यह आश्वस्त करता है कि कोविड -19 लक्षणों के लंबे समय तक चलने वाले लक्षणों का अनुभव करने वाले बच्चों की संख्या कम है। फिर भी, बहुत कम बच्चे कोविड -19 के साथ लंबी बीमारी का अनुभव करते हैं, और हमारा अध्ययन इन बच्चों और उनके परिवारों के अनुभवों को मान्य करता है।” टीम ने 5-17 आयु वर्ग के 250,000 से ज्यादा बच्चों की ओर से माता-पिता या देखभाल करने वालों द्वारा जैडओई कोविड लक्षण अध्ययन ऐप में लॉग इन की गई दैनिक स्वास्थ्य रिपोर्ट को देखा, जिसमें लगभग 7,000 में कोविड -19 के अनुरूप लक्षण और एक पॉजिटिव परीक्षण था। टीम ने सितंबर 2020 से फरवरी 2021 तक की अवधि पर ध्यान केंद्रित किया।

यह भी पढ़ें: हिमाचल में वैक्सीन ना लेने वाले लोग हो रहे ज्यादा संक्रमित, स्वास्थ्य विभाग ने किया खुलासा

इस दौरान, 1,734 बच्चों की रिपोर्ट की गई, जिनके लक्षणों की स्पष्ट शुरूआत और समाप्ति बिंदु और एक पॉजिटिव कोविड पीसीआर परीक्षण था।औसतन, यह बीमारी छोटे बच्चों (5 से 11 वर्ष की आयु) में पांच दिनों तक और 12 से 17 वर्ष की आयु के बड़े बच्चों में सात दिनों तक रही। 20 में से एक से कम ने 4 सप्ताह या उससे ज्यादा समय तक लक्षणों का अनुभव किया, जबकि पचास में से केवल एक में लक्षण 8 सप्ताह से ज्यादा सम य तक रहे। शोधकतार्ओं ने उन बच्चों का भी आकलन किया जिन्होंने कोविड -19 के लिए निगेटिव परीक्षण किया, जिन्हें बचपन की अन्य जैसे कि सर्दी और फ्लू बीमारियां हो सकती हैं। ऐसा करने के लिए, उन्होंने ऐप के माध्यम से रिपोर्ट किए गए लक्षणों वाले आयु-मिलान और लिंग-मिलान वाले बच्चों के एक समूह को चुना, जिनका परीक्षण उसी समय पॉजिटिव बच्चों के रूप में किया गया था।

यह भी पढ़ें: हिमाचल में कोरोना का टीका लगने के कुछ घंटे बाद ही गई युवती की जान

कोविड -19 वाले बच्चे अन्य बीमारियों वाले बच्चों की तुलना में ज्यादा समय तक बीमार थे, जिन्होंने कोविड -19 के लिए निगेटिव परीक्षण किया (कोविड -19 के साथ औसतन 6 दिनों की बीमारी अन्य बीमारियों के साथ 3 दिन) और उनके बीमार होने की संभावना चार सप्ताह से ज्यादा समय तक थी। हालांकि, चार हफ्तों में, अन्य बीमारियों वाले बच्चों की कम संख्या में उन लोगों की तुलना में ज्यादा लक्षण पाए गए जो कोविड -19 (कोविड-निगेटिव समूह में औसत 5 लक्षण बनाम कोविड-पॉजिटिव समूह में 2 लक्षण) से बीमार थे।

–आईएएनएस

 

 

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है