धरती पर आएगी जलप्रलय, दुनिया का सबसे बड़ा ग्लेशियर लगा पिघलने

ग्लोबल वार्मिंग का दिखने लगा असर, पीने के पानी की भी हो जाएगी किल्लत

धरती पर आएगी जलप्रलय, दुनिया का सबसे बड़ा ग्लेशियर लगा पिघलने

- Advertisement -

दुनिया (World) में जलवायु परिवर्तन सबसे बड़ी समस्या बन गई है। मौसम के बदलाव से सही समय पर बारिश-बर्फबारी न होने से इसका सीधा असर अब हमारे जीवन पर भी पड़ने लगा है। जलवायु परिवर्तन (Climate Change) के चलते पूरी दुनिया में ग्लोबल वार्मिंग (Global Warming) का प्रभाव साफ तौर पर देखा जा रहा है। ग्लोबल वार्मिंग के चलते हमारे ग्लेशियर (Glacier) अब धीरे-धीरे पिघलने लगे हैं और इस आशंका से इनकार नहीं किया जा सकता कि वह दिन भी दूर नहीं होगा जब पूरी दुनिया में जल प्रलय (Deluge) आएगी। दरअसल, हम बात कर रहे हैं अंटार्कटिका (Antarctica) में मौजूद थ्वाइट्स ग्लेशियर की। जिसे दुनिया का सबसे बड़ा और खतरनाक ग्लेशियर माना जा रहा है।


यह भी पढ़ें:यहां घर से बाहर निकलते ही जम जाती है पलकें, -55 डिग्री पारा, ऐसे रहते यहां लोग

इतना बड़ा है यह ग्लेशियर

अंटार्कटिका के पश्चिमी इलाके में स्थित ये ग्लेशियर समुद्र के भीतर कई किलोमीटर की गहराई में डूबा हुआ है। इस ग्लेशियर की अंदरुनी चौड़ाई लगभग 468 किलोमीटर मानी जाती है। ये ग्लेशियर समुद्र के अंदर एक विशालकाय दैत्य की तरह फैला हुआ है। अगर इस ग्लेशियर से मजबूत से मजबूत जहाज भी टकरा जाएए तो भयंकर दुर्घटना हो सकती है।

यह भी पढ़ें: एक हाथ से हिल सकती है 132 टन की चट्टान, 1300 साल है भारत में ये विशाल पत्थर

धीरे-धीरे पिघलने लगा है ग्लेशियर

थ्वाइट्स ग्लेशियर (Thwaites Glacier) का क्षेत्रफल 192000 वर्ग किलोमीटर है। अगर इतना विशाल ग्लेशियर जब पिघलेगा तो सारी दुनिया में तबाही मच जाएगी। सबसे ज्यादा हैरान करने वाली बात ये है कि इस ग्लेशियर के पिघलने की शुरुआत हो भी चुकी है। नासा (NASA) के वैज्ञानिकों की मानेंए तो इस ग्लेशियर के भीतर छेद हो रहे हैं। इस ग्लेशियर में एक इतना बड़ा छेद हो चुका है, जो अमेरिका (America) के मैनहट्टन शहर का दो-तिहाई है। हालांकि, वैज्ञानिकों को बस इतनी सी जानकारी हासिल करने के लिए खून-पसीना एक करना पड़ा, क्योंकि इस ग्लेशियर के आसपास का मौसम इतना तूफानी होता है कि इसकी सैटलाइट इमेज भी साफ नहीं आ पाती है। अमेरिका और ब्रिटेन ने केवल इस ग्लेशियर की तस्वीर निकालने के लिए एक बड़ा करार किया जिसे इंटरनेशनल थ्वाइट्स ग्लेशियर कोलेबरेशन कहते हैं।

यह भी पढ़ें: मिट्टी और बाहर खेलने से न रोंके, मोबाइल-टीवी से बच्चों में बढ़ रहीं ये बीमारियां

इस ग्लेशियर के पिघलने से दो से पांच फुट तक बढ़ जाएगा पानी का स्तर

बता दें कि अगर ये ग्लेशियर पिघल जाएगाए तो दुनियाभर के समुद्रों का स्तर 2 से 5 फुट तक बढ़ जाएगा, जिसके वजह से तटीय इलाके पानी से डूब जाएंगे। ऐसे में अलग-अलग देशों की करोड़ों की आबादी या तो मारी जाएगी या फिर विस्थापन का शिकार हो जाएगी। इस बात की आशंका जताई जा रही है कि इस ग्लेशियर के पिघलने का असर अर्थव्यवस्था पर भी पड़ेगा और महामंदी आ जाएगी।

यह भी पढ़ें: ये हैं दुनिया के सबसे महंगे रेस्टोरेंट, यहां एक बार खाना खाने के लगते हैं लाखों रुपए

पीने के पानी बढ़ जाएगी किल्लत

थ्वाइट्स ग्लेशियर के पिघलने से जलप्रलय के अलावा और भी कई दुष्परिणाम होंगे। दुनिया के ताजे पानी में अंटार्कटिक की बर्फ की हिस्सेदारी नब्बे फीसदी है। अब एक बार में पिघलने से जलस्तरए तो बढ़ेगाए लेकिन दूसरे इलाकों में पानी की कमी हो जाएगी। वे नदियां सूख जाएंगी, जिनके पानी के स्त्रोत ग्लेशियर रहा है। इन सभी खतरों को देखते हुए वैज्ञानिक थ्वाइट्स ग्लेशियर को डूम्सडे ग्लेशियर भी कहते हैंए यानी वो ग्लेशियर जिसका पिघलना कयामत लाएगा।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group

 

- Advertisement -

loading...
Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




×
सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है