Covid-19 Update

1,54,664
मामले (हिमाचल)
1,15,610
मरीज ठीक हुए
2219
मौत
24,372,907
मामले (भारत)
162,538,008
मामले (दुनिया)
×

बैंकों के विफल लेनदेन की रकम जल्द नहीं लौटाने पर सख्ती, #RBI दखल दे

उपभोक्ता संरक्षण ने आरबीआई के डिप्टी गवर्नर को पत्र लिखकर दी हिदायत

बैंकों के विफल लेनदेन की रकम जल्द नहीं लौटाने पर सख्ती, #RBI दखल दे

- Advertisement -

नई दिल्ली। ऑनलाइन ट्रांजेक्शन (Online Transactions) के दौरान कई मर्तबा ऐसा हो जाता है कि लेनदेन के दौरान उपभोक्ता (Consumer) के खाते से भगुतान हो जाता है, लेकिन तकनीकी कारणों से वह सफल नहीं हो पाता है। ऐसे मामलों में उपभोक्ता के पास सिर्फ एक ही रास्ता बचता है कि वह बैंक द्वारा रकम लौटा दिए जाने तक इंतजार करे। लेकिन अब सरकार ने बैंकों की इस मामले में लापरवाही को सख्ती से लिया है। उपभोक्ता संरक्षण सीसीपीए ने आरबीआई को पत्र लिखकर कहा है कि ऐसे मामले लगातार बढ़ रहे हैं, इसलिए केंद्रीय बैंक को इसमें दखल देने की जरूरत है।


यह भी पढ़ें – PMC खाता धारकों को मिल सकती है राहत, वित्त मंत्री ने आरबीआई गवर्नर से की मुलाक़ात


आरबीआई के डिप्टी गवर्नर एमके जैन (RBI Deputy Governor MK Jain) को लिखे पत्र में उपभोक्ता संरक्षण की चीफ कमिश्नर निधि खरे (Chief Commissioner of Consumer Protection Nidhi Khare) ने कहा कि लेनदेन विफल रहने या रद होने, लेकिन रिफंड नहीं मिलने के 2,850 मामले राष्ट्रीय उपभोक्ता हेल्पलाइन ( National Consumer Helpline -NCH) पर दर्ज कराए गए हैं। यह एनसीएच पर दर्ज कराए गए कुल मामलों का 20 प्रतिशत है। खरे के मुताबिक ऐसा नहीं कि बैंक रकम लौटा नहीं रहे हैं। लेकिन बैंक इस प्रक्रिया में आरबीआइ के दिशा-निर्देशों में वर्णित समय में ऐसा नहीं कर पा रहे हैं।

बैंकिंग नियामक होने के नाते आरबीआई का यह दायित्व है कि वह इन मामलों को गंभीरता से ले और बैंकों को आदेश दे कि वे इन मामलों में निर्धारित समयावधि का गंभीरता से पालन करें। खरे ने कहा कि एनसीएच को मिली शिकायतों के विश्लेषण से पता चला है र्कि आइएमपीएस और यूपीआईजैसी बैंकिंग सेवाओं में भी लेनदेन विफल रहने या रद होने तथा रिफंड (Refunds) वापस नहीं मिलने के मामले बढ़ते जा रहे हैं। याद रहे कि सीसीपीए का गठन पिछले वर्ष 24 जुलाई को हुआ था। इसका मकसद ग्राहकों के अधिकारों की रक्षा करना है। इसके पास अनुचित कारोबारी कृत्यों, भ्रामक विज्ञापनों तथा ग्राहक अधिकारों की अनदेखी के मामलों को नियंत्रित करना है।

हिमाचल अभी अभी Mobile App का नया वर्जन अपडेट करने के लिए इस link पर Click करें …. 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है