Covid-19 Update

2,00,410
मामले (हिमाचल)
1,94,249
मरीज ठीक हुए
3,426
मौत
29,933,497
मामले (भारत)
179,127,503
मामले (दुनिया)
×

Covid की तीसरी लहर से निपटने को हिमाचल तैयार, क्या-क्या तैयारियां- जानिए

कोविड प्रभावित लोगों के लिए मनो-सामाजिक सहायता हेल्पलाइन

Covid की तीसरी लहर से निपटने को हिमाचल तैयार, क्या-क्या तैयारियां- जानिए

- Advertisement -

शिमला। स्वास्थ्य विभाग (Health Department) के एक प्रवक्ता ने आज यहां बताया कि राज्य सरकार कोविड (Covid) महामारी की संभावित तीसरी लहर के दृष्टिगत बच्चों की सुरक्षा और बच्चों के कोविड मामलों के लिए व्यवस्था करने को प्राथमिकता दे रही है। उन्होंने कहा कि बच्चों की चिकित्सा सुविधा की व्यवस्था के लिए 3 मई, 2021 को जिलों और मेडिकल कॉलेजों (Medical Colleges) को पहले ही प्रोटोकॉल भेजा जा चुका है। इस महामारी के दौरान बच्चों की देखभाल और सुरक्षा सुनिश्चित करने के दृष्टिगत स्वास्थ्य विभाग प्रभावी कदम उठा रहा है।

यह भी पढ़ें: HP Corona: आज 1,269 केस, 2,738 ठीक- 30 की मृत्यु- 16,996 एक्टिव केस

प्रवक्ता ने बताया कि यह सुनिश्चित किया जा रहा है, कि एसएनसीयू (SNCU), पीडियाट्रिक एचडीयू, एनआईसीयू, पीआईसीयू को प्राथमिकता के आधार पर कार्यशील किया जाए। सभी मुख्य चिकित्सा अधिकारियों, मेडिकल कॉलेजों के प्रधानाचार्यो और जिला अस्पतालों, नागरिक अस्पतालों और मेडिकल कॉलेजों के चिकित्सा अधीक्षकों को निर्देश दिए गए हैं कि वे समर्पित कोविड अस्पतालों में उपलब्ध सुविधाओं में वृद्धि करके या उपलब्ध सुविधाओं में बिस्तरों को चिह्नित कर बाल चिकित्सा वार्ड और नवजात इकाइयों की उपलब्धता सुनिश्चित करें। इन बिस्तरों को केंद्रीय ऑक्सीजन (Oxygen) आपूर्ति भी सुनिश्चित की जाए। वर्तमान में प्रदेश में 16 स्वास्थ्य संस्थानों में 224 एसएनसीयू बिस्तर उपलब्ध हैं। इसके अलावा, डीडीयू शिमला, सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र नालागढ़ और जिला कांगड़ा के नागरिक अस्पताल नूरपुर व जोनल अस्पताल धर्मशाला (Zonal Hospital Dharamshala) में चार नवजात स्थिरीकरण (स्टेबलाइजेशन) इकाईयों को जल्द ही बीमार नवजात देखभाल इकाईयों के रूप में स्तरोन्नत किया जाएगा। राज्य में सात बाल रोग उच्च निर्भरता इकाइयां (पीडियाट्रिक हाई डिपेन्डेन्सी यूनिट) भी हैं, जिनमें 34 बिस्तर उपलब्ध हैं।


यह भी पढ़ें: कोरोना धड़ाम से आया नीचे ! वैक्सीन बनी महिला के लिए वरदान-करोड़ों का इनाम

उन्होंने बताया कि सभी स्तरों पर नवजात और बाल रोगियों के लिए एक उपयुक्त आपातकालीन जांच क्षेत्र और उपचार सेवाएं सृजित करने के निर्देश दिए गए हैं। उन्होंने बताया कि उपचार से संबंधित सभी आवश्यक सुविधाएं जैसे उपचार में उपयोग होने वाली वस्तुएं, ऑक्सीजन स्पोर्ट, रेफरल स्पोर्ट, टेलीमेडिसिन सुविधा (Telemedicine Facility) आदि सुनिश्चित की जा रही हैं। बाल रोग विशेषज्ञों, चिकित्सा अधिकारियों, बाल चिकित्सा देखभाल के लिए तैनात की जाने वाली नर्सों आदि के लिए भी अस्पताल प्रभारी द्वारा योजना तैयार की जाएगी। विभाग ने एसएनसीयू में सभी अक्रियाशील उपकरणों को जल्द से जल्द क्रियाशील करने के भी निर्देश दिए हैं।

यह भी पढ़ें: हिमाचल में भी 18 प्लस वाले वैक्सीन के लिए कर पाएंगे ऑन-साइट शेड्यूल बुक, पढ़ें डिटेल
कोविड प्रभावित लोगों के लिए मनो-सामाजिक सहायता हेल्पलाइन

स्वास्थ्य विभाग के प्रवक्ता ने बताया कि भारत सरकार के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय, नई दिल्ली ने नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ मेंटल हेल्थ एंड न्यूरो-साइंस (एनआइएमएचएएनएस) बेंगलुरु के सहयोग से 24 घंटे चलने वाली मनो-सामाजिक (साइकोसोशल) स्पोर्ट हेल्पलाइन (80-46110007) की स्थापना की है। इस हेल्पलाइन (Helpline) के माध्यम से 19 राज्यों व केंद्र शासित प्रदेशों के मानसिक स्वास्थ्य पेशेवर अपनी सेवाएं प्रदान कर रहे हैं। उन्होंने सभी डीसी और मुख्य चिकित्सा अधिकारियों से आग्रह किया है कि वे नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ मेंटल हेल्थ एंड न्यूरोसाइंसेज बेंगलुरु के नंबर 80-46110007 का प्रचार-प्रसार करें। यह मानसिक हेल्पलाइन कोविड मरीजों, उनके परिवारों और आम लोगों को भी मानसिक और मनो-सामाजिक सहायता प्रदान करने में सहयोग करेगी।

यह भी पढ़ें: कमजोर पड़ रही कोरोना की लहर, 1.73 लाख नए केस, 3617 लोगों ने तोड़ा दम

उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा मानसिक स्वास्थ्य को बढ़ावा देने और तनाव व परेशानी को कम करने के लिए, सलाह व दिशा-निर्देश देने वाले ऑडियो-वीडियो और शिक्षाप्रद प्रचार-प्रसार सामग्री तैयार की गई है, जो इस वेबसाइट (Website) पर उपलब्ध है। उन्होंने बताया कि यह वैश्विक महामारी ना केवल एक गंभीर चिकित्सा चिंता का विषय है, बल्कि यह लोगों में कई मानसिक स्वास्थ्य और मनो-सामाजिक परेशानियों को भी लेकर आई है। उन्होंने कहा कि आमतौर पर लोग अनेक प्रकार के भावनात्मक और व्यवहारिक मुद्दों के साथ-साथ तनाव, चिंता और भय का भी सामना कर रहे हैं। उन्होंने आग्रह किया है कि किसी भी मनो-सामाजिक सहायता की आवश्यकता होने पर, जरूरतमंद लोगों को हेल्पलाइन-104 या मनो-सामाजिक हेल्पलाइन की सहायता प्राप्त करनी चाहिए।

यह भी पढ़ें: Himachal: असहाय लोगों को टीकाकरण स्थलों तक आने जाने की सुविधा देगा ये जिला प्रशासन
वृद्धजनों को घर के पास मिलेगी कोविड-19 टीकाकरण की सुविधा

स्वास्थ्य विभाग के एक प्रवक्ता ने आज यहां बताया कि वृद्धजनों और विशेष रूप से सक्षम लोगों को घर के नजदीक कोविड टीकाकरण (Covid Vaccination) की सुविधा मिलेगी। उन्होंने बताया कि विशेषज्ञों और डॉक्टरों की एक समिति ने वृद्धजनों और विशेष रूप से सक्षम लोगों को ध्यान में रखते हुए इस अभियान को अधिक अनुकूल बनाने और जन केंद्रित दृष्टिकोण अपनाने की सिफारिश की है, जिसके आधार पर कोविड-19 (एनईजीवीएसी) राष्ट्रीय विशेषज्ञ समूह ने वृद्धजनों और विशेष रूप से सक्षम लोगों के लिए घर के पास कोविड टीकाकरण केंद्र की रणनीति को मंजूरी दी है और इसे राज्यों के साथ सांझा किया गया है।प्रवक्ता ने बताया कि रणनीति के अनुसार, घरों के नजदीक कोविड टीकाकरण केंद्र (एनएचसीवीसी) विशेष रूप से वृद्धजनों और विशेष रूप से सक्षम व्यक्तियों के लिए आयोजित किया जाएगा और संबंधित उपायुक्त के अधीन जिला टास्क फोर्स सूची के आधार पर टीकाकरण सेवा को लक्षित आबादी तक पहुंचाने के लिए राष्ट्रीय हेल्थ कोविड वैक्सीनेशन केंद्रों (एनएचसीवीसी) का स्थान तय करेगी। टीकाकरण के उद्देश्य से एनएचसीवीसी (NHCVC) को मौजूदा कोविड वैक्सीनेशन केंद्रों (सीवीसी) से जोड़ा जाएगा।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए Subscribe करें हिमाचल अभी अभी का Telegram Channel

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है