Covid-19 Update

2, 85, 020
मामले (हिमाचल)
2, 80, 839
मरीज ठीक हुए
4117*
मौत
43,144,260
मामले (भारत)
529,736,539
मामले (दुनिया)

हिमाचल के स्कूलों में बच्चों को सेहत का ख्याल रखेंगे टीचर्स, खानपान पर रहेगी नजर

विभिन्न गतिविधियों के जरिए हेल्दी फूड खाने के लिए किए जाएंगे प्रेरित

हिमाचल के स्कूलों में बच्चों को सेहत का ख्याल रखेंगे टीचर्स, खानपान पर रहेगी नजर

- Advertisement -

शिमला। हिमाचल (Himachal) के सरकारी स्कूलों में बच्चों को अच्छी शिक्षा देने के साथ अब शिक्षक उनकी सेहत का भी ख्याल रखेंगे। शिक्षक (Teacher) बच्चों को जंक फूड से होने वाले नुकसान और हेल्दी फूड (Healthy Food) खाने के लाभ बताएंगे। इसके लिए स्कूलों में समय-समय पर विभिन्न गतिविधियों के जरिए हेल्दी खाने के लिए बच्चों को प्रेरित किया जाएगा। शिक्षक यह भी सुनिश्चित करेंगे कि स्कूल की कैंटीन (Canteen) में विद्यार्थियों को हेल्दी फूड खाने को मिले। अतिरिक्त निदेशक उच्चतर शिक्षा (प्रशासनिक) संजीव सूद ने इस संबंध में सभी जिलों के शिक्षा उपनिदेशकों (Education Deputy Directors) को पत्र भेजा है। इसमें कहा गया है कि वे अपने जिलों में विद्यार्थियों की सेहत का ध्यान रखने के लिए इस तरह की गतिविधियों का आयोजन करवाएं।

यह भी पढ़ें:हिमाचलः सरकारी स्कूलों में अब बच्चे करेंगे ब्रेकफास्ट, दूध-अंडे से होंगे स्ट्रांग

प्रार्थना सभा में भी बताए जाएंगे जंक फूड के दुष्प्रभाव

स्कूल मुखियों को कहा गया है कि प्रार्थना सभा में भी विद्यार्थियों को जंक फूड के दुष्प्रभाव बताए जाएं। जंक फूड (Junk Food) खाने से विद्यार्थियों की सेहत पर विपरीत असर पड़ रहा है और वे बीमारियों की चपेट में आ रहे हैं। इससे पहले भी शिक्षा विभाग स्कूलों में जंक फूड की बिक्री पर रोक लगाने के कई सर्कुलर जारी कर चुका है। स्कूल परिसर में जंक फूड बेचने पर पाबंदी लगाई गई है। शिक्षक लंच टाइम (Lunch Time) में विद्यार्थियों पर नजर रखेंगे कि वे जंक फूड तो नहीं खा रहे हैं। अकसर देखा गया है कि विद्यार्थी हरी सब्जियों के बजाय जंक फूड खाते हैं, इसलिए उन्हें हरी सब्जियां खाने से होने वाले लाभ भी बताए जाएंगे।

यह भी पढ़ें:हिमाचल में बच्चों को वैक्सीन लगाने का अभियान शुरू, यहां देखें किस जिला में कितनी लगनी है डोज

जंक फूड से नेत्र व दंत रोग का खतरा

जंक फूड खाने से विद्यार्थियों में नेत्र व दंत रोग का खतरा रहता है। कुछ विद्यार्थी मोटापे का शिकार होते हैं। जंक फूड अधिक खाने से पेट में इंफेक्शन होने का खतरा बढ़ जाता है। रोग प्रतिरोधक क्षमता पर भी असर पड़ता है। जंक फूड खाने से शरीर को पूर्ण आहार नहीं मिलता है। इससे विटामिन की कमी होती है। विद्यार्थियों हरी सब्जियों व दूध से बनी वस्तुओं के सेवन के लिए प्रेरित कर उन्हें स्वस्थ रखा जा सकता है।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group… 

 

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है