Covid-19 Update

3,04, 436
मामले (हिमाचल)
2,95, 181
मरीज ठीक हुए
4154
मौत
44,126,994
मामले (भारत)
588,052,691
मामले (दुनिया)

हवन के बाद बची हुई सामग्री का ऐसे करें इस्तेमाल, हो जाएंगे मालामाल

तिजोरी या अलमारी में रखें पूजन के बाद बची हुई मौली

हवन के बाद बची हुई सामग्री का ऐसे करें इस्तेमाल, हो जाएंगे मालामाल

- Advertisement -

सनातन धर्म में घरों में हवन-पूजन करवाना एक सामान्य बात है। अक्सर हम देखते हैं कि पूजन के बाद हवन (Havan) की सामग्री बच जाती है। ऐसे में कई लोग उसे पानी में बहा देते हैं। जबकि, हम इस बची हुई सामग्री को दूसरी जगह भी इस्तेमाल कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें: जगन्नाथ मंदिर की रसोई सबसे बड़ी, भगवान के भोग को क्यों कहते हैं महाप्रसादम

बता दें कि हवन व पूजा के बाद बची पान और सुपारी को आप किसी लाल कपड़े में बांध ले और फिर से अलमारी में सुरक्षित रख दें। कहा जाता है कि ऐसा करने से घर में धन-दौलत बनी रहती है। जैसा कि हम सब जानते हैं की पूजा या हवन की सामग्री में नारियल का होना अनिवार्य तत्व है। पूजा संपन्न होने के बाद इस नारियल को व्यर्थ छोड़ने के बजाय उसे फोड़कर प्रसाद के रूप में सबको बांट देना चाहिए। इसके अलावा आप इसे हवन में डाल सकते हैं।

इसके अलावा पूजा और हवन खत्म होने के बाद कुमकुम बच जाता है। इस बचे हुए कुमकुम को फेंकने के बजाय किसी डिब्बी में डालकर सुरक्षित रख लें। इसके बाद सुहागन महिलाएं इस बचे हुए कुमकुम को अपनी मांग में लगाएं। कहा जाता है कि ऐसा करने से पति की उम्र लंबी होती है। साथ ही घर में आने वाली नई चीजों पर भी इस कुमकुम का तिलक करना ना भूलें।

गौरतलब है कि किसी भी बड़ी-छोटी पूजा व हवन में फूलों और हार का काफी इस्तेमाल किया जाता है। हवन और पूजन के खत्म होने के बाद इन फूलों को विसर्जित करने के बजाय घर के मेन गेट पर लगा लें। इसके बाद जब ये फूल मुरझा जाएं तो उसकी सूखी पत्तियों को हाथ से मसलकर बगीचे या गमले में डाल दें। इससे घर में सकारात्मक ऊर्जा का संचार होगा और पौधों को भी ऑर्गेनिक खाद मिलेगी।

वहीं, हवन व पूजा के बाद बची हुई मौली को आमतौर पर लोग घर में सुरक्षित तरीके से पूजा घर में रख लेते हैं। शास्त्रों में कहा गया है कि पूजा घर में रखने के बजाय उस बची हुई मौली को दुकान की तिजोरी या घर की अलमारी पर बांध दें। ऐसा करने से आप पर हमेशा मां लक्ष्मी की कृपा बनी रहेगी और परिवार में सुख-समृद्धि का संचार होगा।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group… 

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है