Covid-19 Update

2,18,693
मामले (हिमाचल)
2,13,338
मरीज ठीक हुए
3,656
मौत
33,697,581
मामले (भारत)
233,301,085
मामले (दुनिया)

मधुमेह, हाई बीपी ने कोविड मरीजों में बढ़ा दिया ब्रेन स्ट्रोक का खतरा: स्टडी

10 प्रतिशत से अधिक रोगियों ने एक से अधिक न्यूरोलॉजिकल स्थिति का अनुभव किया

मधुमेह, हाई बीपी ने कोविड मरीजों में बढ़ा दिया ब्रेन स्ट्रोक का खतरा: स्टडी

- Advertisement -

शोधकतार्ओं ने पाया है कि गंभीर कोविड -19 के साथ अस्पताल में भर्ती वयस्कों में स्ट्रोक एक सामान्य जटिलता थी, जिसमें युवा लोगों में यह अपेक्षा से अधिक थी। यूके में साउथेम्प्टन विश्वविद्यालय में एक टीम के नेतृत्व में किए गए अध्ययन से पता चला है कि मधुमेह (Diabetes) और उच्च रक्तचाप जैसे जोखिम कारकों ने युवा लोगों सहित कई लोगों में स्ट्रोक के जोखिम का योगदान दिया है। ब्रेन कम्युनिकेशंस जर्नल में प्रकाशित इस अध्ययन (Study) में यूके में कोविड-19 से संबंधित न्यूरोलॉजिकल और मनोरोग संबंधी समस्याओं के 267 मामलों की जांच की गई।

यह भी पढ़ें: हिमाचल : कोरोना के घटते ही स्क्रब टायफस ने मारी एंट्री, आईजीएमसी में 4 मामले

267 मामलों में से, स्ट्रोक सबसे अधिक बार रिपोर्ट की गई स्थितियां थीं, जो लगभग आधे रोगियों को प्रभावित करती थीं। 60 वर्ष से कम उम्र के रोगियों में एक चौथाई से अधिक स्ट्रोक हुए, जिनमें से कई में परिवर्तनीय जोखिम कारक थे, जिसका अर्थ था कि वे पहले से ही स्ट्रोक के जोखिम में थे। अन्य सामान्य स्थितियों में प्रलाप, मनोरोग संबंधी घटनाएं और मस्तिष्क को नुकसान के अन्य सबूत (एन्सेफालोपैथी) शामिल हैं। 10 प्रतिशत से अधिक रोगियों ने एक से अधिक न्यूरोलॉजिकल स्थिति का अनुभव किया, और इन रोगियों को गहन देखभाल और वेंटिलेशन की आवश्यकता होने की अधिक संभावना थी।

यह भी पढ़ें: Corona Update: हिमाचल में बढ़े कोरोना मामले, आज 186 पॉजिटिव; 2 की गई जान

एमी रॉस-रसेल, यूनिवर्सिटी हॉस्पिटल साउथेम्प्टन एनएचएस फाउंडेशन ट्रस्ट में एनआईएचआर साउथेम्प्टन क्लिनिकल रिसर्च फैसिलिटी में रिसर्च फेलो ने बताया कि यह न केवल इस अध्ययन में हमने कितनी अलग-अलग न्यूरोलॉजिकल और मनोरोग संबंधी घटनाओं को देखा, बल्कि यह भी देखा कि इनमें से कुछ स्थितियां एक ही रोगियों के भीतर एक साथ हुईं। इससे पता चलता है कि कोविड एक ही रोगी में तंत्रिका तंत्र के कई हिस्सों को प्रभावित कर सकता है। रॉस-रसेल ने कहा, “स्ट्रोक वाले मरीजों के शरीर में कहीं और रक्त वाहिका रुकावट या घनास्त्रता भी थी, इसलिए यह समझना महत्वपूर्ण है कि कोविड के दौरान कुछ स्ट्रोक क्यों होते हैं।”

यह भी पढ़ें: Corona Upadate: हिमाचल में बढ़ने लगे कोरोना मामले, आज दो की गई जान

खोज से पता चलता है कि कोविड (Covid) युवा लोगों सहित स्ट्रोक के जोखिम को बढ़ाता है। सार्वजनिक स्वास्थ्य उपाय इसे कम कर सकते हैं, जिसमें मधुमेह और उच्च रक्तचाप के विकास से बचने के लिए जीवनशैली के उपाय, रक्त शर्करा और रक्तचाप का अच्छा नियंत्रण और टीकाकरण और अन्य सार्वजनिक स्वास्थ्य उपायों के माध्यम से गंभीर कोविड के जोखिम से बचना शामिल है।

-आईएएनएस

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group 

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है