Covid-19 Update

2,00,791
मामले (हिमाचल)
1,95,055
मरीज ठीक हुए
3,437
मौत
29,973,457
मामले (भारत)
179,548,206
मामले (दुनिया)
×

Solan का ओजस कैंथला बना आर्मी ऑफिसर, इस बटालियन में देगा सेवाएं

21 दिसंबर 1996 को शलांग मेघालय में हुआ है जन्म

Solan का ओजस कैंथला बना आर्मी ऑफिसर, इस बटालियन में देगा सेवाएं

- Advertisement -

दयाराम कश्यप/सोलन। हिमाचल के जिला सोलन (Solan) के मुख्यालय का युवा ओजस कैंथला आर्मी ऑफिसर (Army Officer) बना है। शनिवार को चैन्नई में ऑफिसर ट्रैनिंग अकादमी (ओटीए) की पासिंग आउट परेड का आयोजन किया। इसमें देशभर के 167 जेंटलमैन कैडेट्स आर्मी ऑफिसर बने। इसमें सोलन का ओजस कैंथला भी भारतीय सेना (Indian Army) में विधिवत रूप से शामिल हुआ। ओजस कैंथला ने थल सेना की 2/11 जीआर बटालियन में कमीशन प्राप्त कर अपने परिवार समेत प्रदेश का नाम रोशन किया है।

यह भी पढ़ें: भारतीय सेना ज्वाइन करने के इच्छुक इंजीनियरों के लिए बढ़िया मौका, जल्द करें आवेदन

सोलन के सेंट ल्यूक्स स्कूल में हुई प्रांरभिक शिक्षा

ओजस कैंथला का जन्म 21 दिसंबर 1996 को शलांग (मेघालय) में हुआ। ओजस के पिता कर्नल अरुण कैंथला की उस समय मेघालय में पोसिंग थी। ओजस कैंथला का परिवार मूलत: शिमला (Shimla) जिला के नारकंडा से है। ओजस कैंथला की प्रारंभिक शिक्षा सोलन के सेंट ल्यूक्स स्कूल सोलन से हुई। इसी स्कूल से ओजस ने जमा दो की परीक्षा अच्छे अंकों के साथ पास की। इसके बाद आर्मी लॉ कॉलेज चंडीगढ़ के पांच वर्षीय लॉ विषय की डिग्री हासिल की। आर्मी लॉ कॉलेज में डिग्री कंपलीट होने के बाद देश की बड़ी ट्राई लीगल कंपनी दिल्ली में ओजस का ऊंचे पैकेज पर चयन हुआ। ओजस ने यहां लीगल एसोसिएट के रूप में एक वर्ष तक कार्य किया।


पापा और चाचा की तरह आर्मी ऑफिसर बनना चाहता था ओजस..

अपनी मातृ भूमि की सेवा करने का जुनून उन्हें विरासत में अपने परिवार से मिला। ओजस बचपन से ही अपने पापा और चाचा की तरह आर्मी ऑफिसर बनना चाहता था। इसके लिए अपनी जॉब के साथ- साथ तैयारी भी करने लगा। बता दें कि ओजस के पिता कर्नल अरुण कैंथला और चाचा ब्रिगेडियर अनुज कैंथला सेना से सेवानिवृत्त हो चुके हैं। माता अंबिका कैंथला भी एमए एलएलबी (MA LLB) हैं। ओजस के दादा एचडी कैंथला जिला एवं सत्र न्यायधीश पद रह चुके हैं। ओजस अपनी सफलता का श्रेय अपने माता-पिता और गुरुजनों को देते हैं। सेना में जाने का जनून व देशभक्ति का भाव उसे मंजिल तक ले गया। कोरोना के चलते परिजनों ने घर से ही वर्चुअल माध्यम से ही पासिंग आउट परेड को देखा।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए Subscribe करें हिमाचल अभी अभी का Telegram Channel

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है